जब तक शरीर में सांस, जारी रहेगा आंदोलन

Sunday, July 16, 2017 12:57 PM
जब तक शरीर में सांस, जारी रहेगा आंदोलन

रोहतक : सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करवाने के लिए अनशन पर बैठे संत गोपालदास को दिल्ली एम्स अस्पताल में रैफर किया गया था लेकिन एम्स की बजाय संत को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती किया गया। शनिवार देर शाम संत ने एक संदेश सोशल मीडिया पर वायरल करते हुए कहा कि जब तक शरीर में सांस है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। संत ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि मेरी लड़ाई गाय, गरीब, गौचरान के लिए है और जब तक इसमें हमें सफलता नहीं मिलेगी, तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा। सरकार चाहे जितने जोर लगा ले लेकिन वो मेरा हौसला कम नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि देश प्रलय की ओर अग्रसर है, बड़े वैज्ञानिकों ने शौध किए हैं कि प्रकृति से जो छेड़छाड़ हो रही है, वो विनाश का कारण बनेगी। हम उसी डाली को काट रहे, जिस पर बैठे हैं।

वहीं, शनिवार को संत से राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भी नेता मिलने पहुंचे। कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर, दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा, देवेंद्र भगत बागपत, व इंडिया अगेंस्ट करप्शन के सैंकड़ों साथी उनसे मिलने पहुंचे। वहीं, रोहतक में संत गोपालदास के समर्थन पिछले 3 दिन से मोखरा से 80 वर्षीय रामकिशन शास्त्री आमरण अनशन पर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि जब तक संत गोपालदास की मांगों को सरकार नहीं मान लेती, वे तब तक अनशन जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि अगर, इस दौरान मेरी शहादत हो जाती है तो यह मेरे लिए सौभाग्य होगा।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !