जाटों और सरकार के बीच बनी सहमति, कल नहीं होगा दिल्ली कूच

Sunday, March 19, 2017 5:17 PM

दिल्ली (कमल कंसल):पिछले 50 दिनों से चल रहा गतिरोध आखिरकार थम गया है। जाटों का 20 मार्च को होने वाला दिल्ली कूच स्थगित कर दिया गया है। जाट नेता यशपाल मलिक ने सीएम के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका ऐलान किया। दिल्ली के हरियाणा भवन में जाट नेता यशपाल मलिक और सीएम मनोहर लाल की बैठक हुई। इस बैठक में केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह, केंद्रीय राज्यमंत्री पी पी चौधरी और प्रदेश कैबिनेट मंत्री कृष्ण बेदी भी शामिल हुए। इस बैठक के बाद सीएम ने साफ किया कि सभी मांगों पर सहमति बन चुकी है और जाटों ने भी सरकार के आश्वासन पर अपनी सहमति जताई है जिसके बाद से कल होने वाले दिल्ली कूच का फैसला रद्द कर दिया गया है।

इन फैसलों पर बनी सहमति
- 20 मार्च को होने वाले दिल्ली कूच को स्थगित कर दिया गया है।
- सीएम ने कहा कि प्रदेश में जाटों का मुद्दा अभी कोर्ट में है और कोर्ट का फैसला आते ही जाटों को संविधान की 9वीं सूची में डाल दिया जाएगा।
- साल 2010 से लेकर अब तक के सभी मामलों पर पुनर्विचार होगा और निर्दोष लोगों को न्याय मिलेगा।
- जाट आंदोलन के दौरान मृतकों के आश्रितों और अपंगों को स्थाई नौकरी दी जाएगी।
- आंदोलन के दौरान सभी घायलों को जल्द से जल्द मुआवजा जाएगा।
- सभी आरोपी अधिकारियों के खिलाफ जांच होगी और दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।
- सांकेतिक धरने मांगें पूरी होने तक जारी रहेंगे।

केंद्र में आरक्षण पर भी बनी बात
केंद्र में आरक्षण के मुद्दे पर केंद्रीय राज्य मंत्री पीपी चौधरी ने कहा कि पिछड़ा आयोग के चेयरमैन की नियुक्ति के बाद इस पर प्रक्रिया शुरू होगी। प्रक्रिया पूरी होने के बाद इसकी रिपोर्ट पेश की जाएगी और रिपोर्ट के आधार पर केंद्र में जाटों को आरक्षण के मुद्दे पर अागामी कार्यवाही होगी। पीपी चौधरी ने कहा कि यूपीए सरकार के वक्त जो आरक्षण दिया गया था उसमें कई खामियां थी जिसे कोर्ट ने भी निरस्त कर दिया था।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !