मंदबुद्धि महिला को अब सखी सैंटर करनाल में किया जाएगा शिफ्ट

Friday, January 12, 2018 2:58 PM
मंदबुद्धि महिला को अब सखी सैंटर करनाल में किया जाएगा शिफ्ट

यमुनानगर(ब्यूरो):मंदबुद्धि महिला से रेप को 15 दिन बीत चुके हैं। गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग ने बाल विवाह संरक्षण एवं निषेध अधिकारी (डी.पी.सी.ओ.) के नाम पत्र लिखकर महिला को शिफ्ट करने की मांग की है। डाक्टरों के मुताबिक महिला अपने घर जा सकती है। वह ओ.पी.डी. में इलाज ले सकती है। उसे अब अस्पताल में भर्ती की आवश्यकता नहीं है। हालांकि वह अब भी बयान देने के लिए फिट नहीं है।

 ध्यान रहे 27 दिसम्बर 2017 को 2 महिलाओं के बयान के आधार पर ट्रामा सैंटर प्रशासन ने मैडीकल करवाने के बाद एस.पी. को पत्र लिखा था जिस पर संज्ञान लेते हुए महिला थाना ने अज्ञात पुलिस कर्मचारी के खिलाफ रेप का मामला दर्ज किया था। पुलिस को तब से अब तक महिला के फिट होने का इंतजार है। इधर, पुलिस से जुड़े सूत्र बता रहे हैं कि यदि महिला को शिफ्ट किया जाता है तो जांच अधिकारी को बार-बार चक्कर लगाने होंगे। 

मौजूदा समय में तो वे हर रोज ट्रामा सैंटर उसका हाल जान लेते थे। महिला के शिफ्ट होने की सूरत में उसके साथ एक सहायक चाहिए। उसका परिवार पहले ही देखभाल के लिए हाथ खड़ा कर चुका है। महिला की मां ने मजबूरी जाहिर की है कि उसके सिर पर पति का साया नहीं है और बेटा भी मानसिक तौर पर बीमार है। ऐसे में वह किसे देखे। 

5 दिन के लिए भेजेंगे सखी सैंटर करनाल : अरविंद्रजीत कौर
बाल विवाह संरक्षण एवं निषेध अधिकारी (डी.पी.सी.ओ.) अरविंद्रजीत कौर का कहना है कि महिला को स्वास्थ्य विभाग के पत्र के आधार पर सखी सैंटर करनाल भेजने का निर्णय लिया गया है। फिलहाल वह वहां 5 दिन रहेगी। इस अवधि में उसकी कौंसलिंग की जाएगी। प्रयास रहेगा कि महिला मानसिक परेशानी से उभरे। इसके अलावा भी जो मदद और इलाज संभव होगा वह दिया जाएगा। 5 दिन के बाद परिजनों और परिस्थितियों को देखते हुए आगामी निर्णय लिया जाएगा।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!