हरियाणा और पंजाब बार काउंसिल के चेयरमैन बने डॉ. विजेंदर सिंह अहलावत

Sunday, November 12, 2017 8:10 PM
हरियाणा और पंजाब बार काउंसिल के चेयरमैन बने डॉ. विजेंदर सिंह अहलावत

चंडीगढ़ (धरणी): शनिवार को लॉ भवन में आयोजित हुई जरनल हाउस की सभा में डॉ. विजेंदर सिंह अहलावत को पंजाब और हरियाणा बार काउंसिल के चेयरमैन के रूप में चुना गया। इस सभा में जयवीर यादव वर्तमान चेयरमैन, वाईस चेयरमैन करनजीत सिंह व सचिव हरप्रीत सिंह गरचा सहित सदस्य मीटिंग में उपस्थित थे। जय वीर यादव ने चेयरमैन पद से त्यागपत्र दिया जिसे हाउस ने स्वीकार कर लिया। जरनल हाऊस ने जयवीर यादव की सरहानीय सेवा विशेष कर अधिवक्ता कल्याण अधिनियम के तहत पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में कल्याण सेवा लागू करवाने के लिए आभार प्रकट किया।

PunjabKesari

जयवीर यादव ने अपने त्यागपत्र के बाद डॉ. विजेंदर सिंह अहलावत का नाम चेयरमैन पद के लिए नाम प्रस्तावित किया था जिसे सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से अनुमोदित कर चेयरमैन के पद पर चुना। नवनिर्वाचित चेयरमैन ने हाउस को आश्वासन दिया की वो कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने में और कल्याणकारी नीतियों के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोडेंगे।

वहीं हाउस ने सर्वसम्मति से श्री जोगिन्दर कुमार महेश्वरी को को-चेयरमैन के पद पर निर्वाचित किया गया। डॉ. अहलावत कौंसिल के 40वें चेयरमैन हैं। यह बार कौंसिल अधिवक्ता अधिनियम के तहत पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के लिए स्थापित की गई है। काउंसिल का मुख्य कार्य योग्य कानूनी स्नातकों को बतौर वकील एनरोल करना, वकीलों के अधिकार, हित और विशेषाधिकारों की रक्षा करना, उनके कल्याण के लिए कार्य करना इत्यादि है। बार कौंसिल ऑफ इंडिया के निर्देशानुसार विश्वविद्यालयों का निरीक्षण करना और कानून में सुधारक इत्यादी के लिए कार्य करना है। पंजाब व हरियाणा और चंडीगढ़ के वकीलों द्वारा निर्वाचित 25 सदस्यों के अलावा पंजाब और हरियाणा के महाधिवक्ता इसके पदेन सदस्य हैं। वर्तमान में लगभग 92 हजार वकील और बार एसोसिएशन इससे सम्बंधित हैं।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!