आपके पैरेंट की सेहत का खयाल रखता है केयर फॉर पैरेंट्स

punjabkesari.in Friday, Aug 26, 2022 - 09:01 PM (IST)

गुड़गांव ब्यूरो : केयर फॉर पैरेंट्स क्या है और यह बुजुर्गों की सेहत का किस तरह खयाल रखता है इसके बारे में बता रही हैं को-फाउंडर शुचिता गुप्ता.

1. केयर फॉर पैरेंट्स क्या करता है?

केयर फॉर पैरेंट्स एक समय में सभी तरह की स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाला प्लैटफॉर्म है. यहां ऑनलाइन मेडिकल हिस्ट्री, रियल टाइम फैमिली मेंबर एक्सेस, 24 घंटे फिजिशियन सर्विस, एंबुलेंस सर्विस 500 से अधिक शहरों में उपलब्ध है. यहां के डॉक्टर फैमिली डॉक्टर की तरह रेग्युलरली हाल जानते रहते हैं. मरीज के जनरल हेल्थ संबंधित मेडिकल जानकारी पर नजर रखी जाती है कि सबकुछ कंट्रोल में है या नहीं. रिपोर्ट स्टडीज के आधार पर मरीज के फ्यूचर ट्रीटमेंट का फैसला किया जाता है. देश के 90 से ज्यादा शहरों में इसके लाभार्थी हैं. इसने सुपर स्पेशिएलिटी अस्पतालों, लैब्स और नर्सिंग फैसिलिटी से टाइ-अप किया है, जिसका फायदा यूजर्स को मिलता है.

 

2. यहां  किन तरह की सेवाएं प्रदान की जाती हैं?

यहां बुजुर्गों का मेडिकल हिस्ट्री ऑनलाइन उपलब्ध होता है. उनके बच्चे रियल टाइम में दुनिया के किसी भी कोने से इस रिपोर्ट को एक्सेस कर सकते हैं. इमरजेंसी के हालात में यह मेडिकल हिस्ट्री बहुत उपयोगी होता है. बुजुर्गों के प्रिवेंटिव हेल्थकेयर में यह मदद करता है. स्पेशलिस्ट कंसल्टेशन, नर्स, केयर टेकर, फिजियोथेरेपी, ईसीजी, एक्स-रे, मेडिसिन  डिलिवरी, लैब टेस्ट, सैंपल कलेक्शन जैसी सुविधाएं घर पर उपलब्ध करवाई जाती हैं. 24 घंटे एंबुलेंस की सेवा उपलब्ध होती है.

 

3. केयर फॉर पैरेंट्स आगे किन संभावनाएं पर काम कर रहा है?

यूजर्स अब अपने वियरेबल बैंड, मेडिकल डिवाइस और हेल्थकेयर ऐप को इस ऐप से लिंक कर सकते हैं. इससे यूजर्स क  सभी तरह का हेल्थ डेटा एक जगह उपलब्ध हो जाता है. यहां अलग-अलग लैब रिपोर्ट का कंपेरिजन किया जाता है जिससे हेल्थ संबंधी बेहतर जानकारी हासिल होती है. 30 साल से ज्यादा के युवाओं के लिए यहां डॉक्टर कंसल्टेशन, ऑनलाइन मेडिकल हिस्ट्री डेटा समेत अन्य तरह की मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध हैं. अगर किसी के लाइफ स्टाइल में बदलाव की जरूरत होती है तो उसे भी बताया जाता है.

 

4. कोरोना महामारी का बिजनेस पर कैसा असर हुआ?

कोरोना महामारी का सीनियर सिटीजन की सेहत पर गंभीर असर हुआ, खासकर जो अकेले रहते हैं. कोरोना के कारण लंबे समय तक बेसिक हेल्थ सर्विसेज उपलब्ध नहीं हो पाई जिससे उनकी सेहत को नुकसान पहुंचा. जो बुजुर्ग पहले से बीमारी से ग्रसित थे, वे समय पर डॉक्टर की सलाह तक नहीं ले पाए. ऐसे हालात में अगर जनरल फिजिशियन की सुविधा ऑनलाइन वीडियो कॉल पर उपलब्ध हो जाए तो बहुत राहत मिलती है. जो बच्चे मां-बाप से दूर थे, उन्हें वीडियो कॉल मेडिकल असिस्टेंट से राहत मिली. बुजुर्गों को भी समय पर मेडिकल सुविधा का लाभ मिला. करुण दुदानी ऑस्ट्रेलिया में रहते हैं और केयर फॉर पैरेंट्स के एक्टिव यूजर्स हैं. उन्होंने कहा कि उनके पैरेंट दिल्ली में रहते हैं और कोरोना काल में उनकी तबीयत बिगड़ गई. यात्रा करने पर मनाही थी. ऐसे में केयर फॉर पैरेंट्स से संपर्क किया और समस्या का समाधान हो गया. यहां ट्रेन्ड डॉक्टर और नर्सेस की टीम है जो अच्छी देखभाल करती है. डॉक्टर को दिन या रात कभी भी संपर्क किया जा सकता है और समस्या का हल उसी वक्त मिलता है.


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Gaurav Tiwari

Recommended News

static