शिक्षण प्रणाली के अन्तर्गत छात्रों ने प्रस्तुत किए मॉडल

punjabkesari.in Tuesday, Jan 18, 2022 - 07:20 PM (IST)

गुडग़ांव ब्यूरो: यूरो इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर 37डी के विद्यार्थियों ने प्रयोगात्मक शिक्षण प्रणाली के अन्तर्गत कई मॉडल बनाए। नई शिक्षा नीति के तहत छात्र प्रयोग कर अपने विषय को आत्मसाध कर रहे हैं। कक्षा चतुर्थ से लेकर छठी तक के छात्रों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। विज्ञान विषय की अध्यापिका मोनिका शर्मा मैम और कशिश मैम ने छात्रों का मार्ग प्रशस्त किया। कक्षा 6बी के विद्यार्थी अक्षज ने अपनी कक्षा अध्यापिका मोनिका शर्मा मैम के दिशा-निर्देश में जो मॉडल बनाया वह सराहनीय कदम है जो दिखाता है कि ये नोनिहाल आने वाले कल के जगमगाते सितारे हैं। क्रियाकलाप के माध्यम से शिक्षण-प्रशिक्षण प्रक्रिया न केवल रूचिकर बनती है बल्कि शिक्षा को नये आयाम भी प्रदान करेगी। विभिन्न कक्षाओं के छात्र अपने स्तर के अनुरूप प्रयोगात्मक शैली के आधार पर शिक्षा ले रहे हैं जिससे अभिभावक भी प्रसन्न और संतुष्ट हैं।
चित्रकला गतिविधि का भी हुआ आयोजन 
यूरो इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-10 में विद्यार्थियों के लिए वारली चित्रकला गतिविधि का आयोजन आभासी मंच के द्वारा किया गया। विद्यार्थियों ने इस गतिविधि में बढ़-चढ़ कर भाग लिया एवं बहुत ही सुन्दर-सुन्दर वारली चित्रकलाएं बनाई। वारली चित्रकला एक प्राचीन भारतीय कला है जो की महाराष्ट्र की एक जनजाति वारली द्वारा बनाई जाती है और यह कला उनके जीवन के मूल सिद्धांतो को प्रस्तुत करती है। यह कला वारली जनजाति के सरल जीवन को भी दर्शाती है। सभी विद्यार्थी वारली कला से अवगत हुए। विद्यालय की प्रधानाचार्य निधि कपूर ने सभी बच्चों की वारली चित्रकला की सराहना की।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Gaurav Tiwari

Related News

Recommended News

static