भाव विभोर हुए प्रवासी श्रमिक, घर जाने की खुशी में बोले- जिंदगी रही तो मिलेंगे दोबारा

punjabkesari.in Sunday, May 24, 2020 - 10:41 AM (IST)

नारायणगढ़ : प्रवासी श्रमिक हंसी-खुशी से शनिवार को अपने गांव की ओर यहां से रवाना हुए। इन श्रमिकों को इनके गृह राज्य भेजने के लिए प्रशासन द्वारा सरकार के निर्देशानुसार हरियाणा रोडवेज की बसों की व्यवस्था की गई थी। राधा स्वामी सत्संग ब्यास सैंटर नारायणगढ़ से 198 प्रवासी श्रमिक उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में स्थित अपने घरों की ओर रवाना हुए। यह जानकारी देते हुए एस.डी.एम अदिति ने बताया कि प्रवासी श्रमिकों को यहां राधा स्वामी सत्संग ब्यास सैंटर में अस्थाई शैल्टर होम में ठहराव के दौरान उन्हें बताया गया कि वे अपने घर जाकर भी सोशल डिस्टैंसिंग का ध्यान रखें और हैंड वाशिंग या सैनिटाइजर का प्रयोग करें। इसके अलावा फेस कवर करें एवं मास्क का प्रयोग करें।    

उल्लेखनीय यह है कि ये प्रवासी श्रमिक काला आम्ब की फैक्ट्रियों में काम करने वाले कामगार व कुछ खेतीहर मजदूर है। एस.डी.एम. अदिति, डी.एस.पी. अमित भाटिया, तहसीलदार दिनेश ढिल्लों, शाहजादपुर के नायब तहसीलदार सुरेंद्र भारद्वाज सहित अन्य अधिकारियों ने मंगलवार यात्रा की प्रवासी श्रमिकों को शुभकामनाएं दी। यू.पी के प्रवासी श्रमिक महेश सुदंर लाल, विजेंद्र, महेंद्र कुमार व दीपक आदि ने कहा कि लॉकडाउन होने से जब काम धंधा सब बंद हो गया और फैक्ट्रियां भी बंद हो गई। उन्होंने कहा कि यहां के प्रशासन, लोगों व संस्थाओं के सहयोग से कभी उन्हें भूखा नहीं रहना पड़ा। वे सभी लोगों का दिल से धन्यवाद करते है।      

मध्य प्रदेश अपने के माखन लाल, प्रीतम, अखिलेश तथा पूर्ण आदि ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के इस संकट काल में जो मदद हरियाणा सरकार, प्रशासन, यहां की संस्थाओं द्वारा की गई है उसे वे जीवन भर याद रखेंगे। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि वे यहां काम करने दोबारा आएगें। इन सभी प्रवासी श्रमिकों ने हरियाणा सरकार, प्रशासन तथा राधा स्वामी सत्संग ब्यास सैंटर की सराहना की।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Edited By

Manisha rana

Related News

Recommended News

static