दसवीं में देश के टॉपर हितेश्वर शर्मा 12वीं में भी 99.8 प्रतिशत अंक हासिल कर किया टॉप

punjabkesari.in Friday, Jul 30, 2021 - 09:53 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी): होनहार बिरवान के होत चिकने पात, उम्र की मोहताज नहीं होती प्रतिभा और पूत के पांव पालने में ही नजर आ जाते हैं, यह तीनों लोकोक्तियां पंचकूला के हितेश्वर शर्मा पर सटीक बैठते हैं। बचपन से ही शिक्षा के क्षेत्र में मेधावी, पढऩे में अग्रणी, हर कक्षा में अव्वल आने की जिद ने आज न केवल हितेश्वर और उसके परिवार को गौरवान्वित किया, बल्कि पूरा पंचकूला इस छात्र की उपलब्धि पर इतरा रहा है। आज आए 12वीं के परीक्षा परिणामों में हितेश्वर शर्मा ने 99.8 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं।

हितेश्वर ने दसवीं कक्षा में देश में टॉप किया है और 26 जनवरी की परेड देखने के लिए खुद प्रधानमंत्री द्वारा हितेश्वर को अतिथि के तौर पर इनवाइट किया गया था। जहां शिक्षा मंत्री द्वारा हितेश्वर को 12वीं कक्षा में भी टॉप करने के लिए प्रोत्साहित किया गया था। प्रधानमंत्री मोदी से बात करने के बाद हितेश्वर के घर बधाई देने वालों का तांता लगा है। वहीं उनके एचसीएस पिता के फोन पर लोग खुशी जाहिर कर रहे हैं। 

माता मीनाक्षी ने जहां पंजाब केसरी से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान रखते हुए यह फैसला लेना और फिर बच्चों को इस प्रकार से मोटिवेट करना बहुत बड़ी बात है। वहीं पिता आशुतोष राजन ने कहा कि बच्चे के स्वास्थ्य से बढ़कर कुछ नहीं है। अंक मायने नहीं रखते, अगर स्वस्थ भारत के निर्माण की तरफ हमें जाना है, तो स्वस्थ रहना सबसे अधिक मायने रखता है। प्रधानमंत्री के इस फैसले के लिए देश का हर मां-बाप हर नागरिक तहे दिल से उनका आभारी है।

हितेश्वर ने बताया कि उनकी प्रेरणा के सबसे बड़े स्त्रोत उनके पिता हैं, जो हमेशा उसे समाज की सेवा के लिए मोटिवेट करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कभी पढऩे के लिए दबाव नहीं डाला। कभी यह शर्त नहीं रखी कि इतने घंटे पढऩा है। हमेशा भरोसा किया और साथ ही जब मैं पिताजी को देखता हूं कि वह कैसे लोगों की सेवा करते हैं। मैं बहुत प्रभावित होता हूं। 

हितेश्वर ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना आइडियल बताते हुए कहा कि यह मेरे जीवन का सबसे बड़ा सरप्राइज था कि देश के प्रधानमंत्री मेरे सामने थे और मुझसे बात की। पिछले दिनों देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हितेश्वर की प्रतिभा को देखते हुए उससे बात की थी। वैश्विक महामारी कोरोना ने जहां प्रत्येक व्यक्ति- प्रत्येक व्यवसाय को बुरी तरह से प्रभावित किया, वहीं शिक्षा का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं रहा है। 

12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द होने के बाद छात्रों की आपबीती, उनके मन की टोह लेने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा पूरे देश भर से कुल 17 बच्चों से बात की गई थी, जिसमें हरियाणा से शामिल हुआ हितेश्वर एकमात्र छात्र था। हितेश्वर से कुल 7 मिनट तक बात कर शिक्षा के क्षेत्र को हुए नुकसान, 12वीं कक्षा की परीक्षा में भी टॉप पर रहने का वायदा किया था, जो इसने पूरा कर दिखाया है।

हितेश्वर शर्मा को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया हरियाणा की शान
PunjabKesari, haryana

वहीं हितेश्वर शर्मा को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने निवास पर बुलाकर उन्हें आशीर्वाद व शुभकामनाएं दी। हितेश्वर शर्मा के साथ उनके एचसीएस पिता आशुतोष राजन उनकी माता तथा पूरा परिवार मुख्यमंत्री से मिला। हितेश्वर शर्मा के पिता आशुतोष राजन हरियाणा एक्साइज विभाग में ज्वाइंट कमिश्नर के पद पर कार्यरत हैं। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हितेश्वर जैसे होनहार बच्चों पर हरियाणा का नाज है। हितेश्वर शर्मा जैसे काबिल बच्चे हरियाणा की शान व पहचान हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हितेश्वर शर्मा की पीठ थपथपाते हुए कहा कि तुम जैसे बच्चे देश में हरियाणा का नाम ऊंचा कर रहे हैं। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल को हितेश्वर शर्मा ने बताया कि वह आईएएस अधिकारी बनना चाहता है। हितेश्वर ने मुख्यमंत्री को बताया कि वह क्रिकेट के साथ-साथ पढ़ाई को पूरी तवज्जो देता है। उसने बताया कि उसे अपने परिवार में सब का पूरा सहयोग मिलता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static