दिल्ली कूच: पानीपत पहुंचे किसान, यहां कर सकते हैं रात्रि ठहराव, रहने और खाने-पीने की पूरी व्यवस्था

11/26/2020 7:18:31 PM

हरियाणा टीम: केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों ने दिल्ली कूच का ऐलान किया है। किसानों को रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी बॉर्डर सील कर दिए हैं। ऐसे में किसानों और पुलिस के बीच कई जगह टकराव हो गया। शंभू बॉर्डर पर किसानों ने आगे बढ़ने के लिए बेरिकेट तोड़ दिए। इसके बाद पुलिस ने पानी की बौछारें करके उन्हें रोकने की कोशिश की, वहीं आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। इससे गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। ऐसी स्थिति कई जगह बनी। किसान उग्र रुप धारण किए हुए हैं। पुलिस द्वारा लगाए गए बेरिकेट को तोड़कर वह दिल्ली के लिए आगे बढ़ रहे हैं। पुलिस उन्हें रोकने का प्रयास कर रही है।  किसान अब पानीपत पहुंच गए हैं। यहां वह रात्रि ठहराव कर सकते हैं। किसानों के लिए गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने रहने खाने-पीने की पूरी व्यवस्था की है। 

PunjabKesari, haryana

वाटर कैनन से भी किसानों को नहीं रोक पाई पुलिस
कुरुक्षेत्र के पिहोवा उपमंडल में हरियाणा-पंजाब बॉर्डर ट्यूकर के पास पंजाब के किसान भारी संख्या में इकट्ठे हो गए। जिसके बाद उन्होंने उग्र होकर बेरिकेट तोड़ कर हरियाणा की सीमा में प्रवेश कर लिया है। हालाकिं पुलिस ने किसानों पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया, लेकिनफिर भी स्थिति नियंत्रण में नहीं हुई। 

PunjabKesari, haryana

बेरिकेट तोड़ हरियाणा में घुसे पंजाब किसान, ट्रैक्टर ट्राली लेकर दिल्ली की तरफ बढ़े
फतेहाबाद में रतिया थाना क्षेत्र की ब्राह्मण वाला चौकी पर पंजाब के किसानों ने हरियाणा सीमा पर लगे पुलिस बेरिकेट तोड़ दिए। बेरिकेट तोड़ने के बाद पंजाब के किसान हरियाणा में घुस गए और ट्रैक्टर ट्राली लेकर दिल्ली की तरफ रवाना हो गए। 

PunjabKesari, haryana

करनाल में किसानों ने तोड़े बेरिकेट, पुलिस ने किया वाटर कैनन का प्रयोग
करनाल में किसानों ने पुलिस द्वारा लगाए गए बेरिकेट तोड़ दिए और दिल्ली के लिए रवाना हो गए। पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए आंसू गैस व वाटर कैनन का प्रयोग किया, लेकिन इसके बावजूद किसान नहीं रुके। वह आंसू गैस व वाटर कैनन के बाद और भी उग्र हो गए। 

PunjabKesari, haryana

पुलिस कर्मचारियों ने निकाली ट्रैक्टर की चाबी
हांसी में दिल्ली कूच के लिए किसान ट्रेक्टर लेकर आगे बढ़ रहे थे, तभी एसएचओ विद्यानंद पुलिस फोर्स के साथ ट्रैक्टरों की चाबी निकाले के लिए पीछे दौड़े। लेकिन किसानों ने ट्रैक्टर नहीं रोका। आखिर पुलिस ने सख्ती दिखाई और ट्रैक्टर की चाबी निकाली। पुलिस से इस दौरान किसानों की हलकी सी झड़प भी हुई। इसके बाद आसपास के गांवों के किसान भी ट्रैक्टरों में आने लगे। मुंढाल चौक के पास किसानों ने धरना दे दिया है। फिलहाल हिसार-दिल्ली हाईवे पर यातायात सुचारु है।

PunjabKesari, haryana

गोहाना से किसान ट्रैक्टर ट्रॉलियों में सवार होकर दिल्ली रवाना
कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा दिल्ली चलों आह्वान पर गोहाना से किसान ट्रैक्टर ट्रॉलियों में सवार होकर दिल्ली के लिए रवाना हो हुए। पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए कई जगहों बेरिकेट्स लगाए हुए थे, लेकिन किसान नहीं रुके। 

PunjabKesari, haryana

किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने बीच सड़क पर खड़े किए धान से भरे ट्रक
डबवाली से दिल्ली कूच के लिए किसानों का काफिला रवाना हो गया। किसानों के रोकने के लिए पुलिस पूरी तरह से तैयार है। डबवाली में हरियाणा बॉर्डर पर किसानों को दाखिल होने से रोकने के लिए पुलिस ने धान से भरे ट्रक सड़क के बीचों-बीच खड़े कर दिए।

PunjabKesari, haryana

हुड्डा की सरकार और किसानों से अपील
किसान आंदोलन को देखते हुए हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सरकार और किसानों से अपील की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का माहौल खराब ना हो शांति से समाधान निकालें। हुड्डा ने कहा कि किसान कानून में एमएसपी को लेकर भी प्रावधान होना चाहिए। 

PunjabKesari, पोीबोलो

किसानों को कांग्रेस का समर्थन
दिल्ली कूच को लेकर कांग्रेस किसानों के समर्थन में आ गई है। कांग्रेस नेताओं ने ट्वीट कर कहा कि वह किसानों के साथ है। प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा कि किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है। किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं। 

PunjabKesari, haryana

किसानों को जबरन रोकना मोदी-खट्टर सरकार की तानाशाही का जीवंत प्रमाण
वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सूरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि भीषण ठंड के बीच अपनी जायज मांगों को लेकर गांधीवादी तरीक़े से दिल्ली जा रहे किसानों को ज़बरन रोकना और वाटर कैनन चलाना मोदी-खट्टर सरकार की तानाशाही का जीवंत प्रमाण है। खेती बिलों के विरोध को लेकर हमारा पूर्ण समर्थन किसानों के साथ है। मोदी सरकार होश में आओ!

farmers break barricades for traveling to delhi

शंभू बॉर्डर पर टकराव
तीन कृषि कानूनों के विरोध में वीरवार को दिल्ली कूच को लेकर अंबाला शंभू बॉर्डर पर टकराव हो गया। बॉर्डर पर पंजाब के किसानों की भीड़ इकट्ठी हो गई है। इस भीड़ को रोकने के लिए हरियाणा पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया, जिससे किसान आगे न बढ़ सकें। इसके साथ ही किसानों पर आंसू गैस के गोले भी छोड़े। जिस पर किसानों का गुस्सा इतना बढ़ गया कि उन्होंने बेरिकेट को ही नदी में फेंक दिया और पुलिस पर पथराव भी किया। 



 


vinod kumar

Related News