सरकार ने कहा- अंडे व चिकन से नहीं फैलता कोरोना, बल्कि बढ़ जाती है इम्युनिटी पॉवर

4/7/2020 3:01:36 PM

डेस्क: पूरे देश में इस बात की अफवाह है कि क्या चिकन, मछली या अंडा खाने से कोरोना वायरस फैलता है। सच तो ये है कि कोरोना सिर्फ कोरोना वायरस से ही फैलता है। इसको लेकर वैज्ञानिक भी कई बार समझा चुके हैं कि पोल्ट्री उद्योग का कोरोना वायरस से कोई संबंध नहीं है, बल्कि चिकन एवं अंडे न केवल सुरक्षित और पौष्टिक हैं बल्कि इनमें मौजूद ‘हाई क्वालिटी प्रोटीन’ रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है।

कोरोना वायरस का प्रभाव दुनिया भर के तमाम उद्योगों पर पड़ा है. वे पूरी तरह चरमरा गए हैं। भारत में कोरोना वायरस के 4 हजार से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। इसी बीच कई राज्यों में मांग की भारी कमी के चलते चिकन और अंडे के दाम अचानक गिर गए हैं, बाजार में इनकी मांग कम हो गई है, जिसे लेकर डेयरी व पशुपालन मंत्रालय ने एडवाईजरी जारी की है, जिसमें मंत्रालय ने खुद ही अंडे व चिकन खाने की सलाह दी। मंत्रालय ने ही बताया कि अंडे व चिकन खाने से कोरोना वायरस नहीं फैलता बल्कि इम्युनिटी पॉवर बढ़ जाती है।



भारत सरकार ने स्पष्ट किया है कि अंडे व चिकन के माध्यम से कोरोना वायरस फैलने के संबंधी गुमराह करने वाली खबरें सोशल मीडिया पर अफवाहों की तरह फैलाई जा रही है, जिससे अंडे व मीट, पोल्ट्री की खपत बुरी तरह से कम हुई है। लोगों ने अफवाहों के बीच अंडे व चिकन की खरीद को बेहद कम कर दिया है।

डेयरी व पशुपालन मंत्रालय के संयुक्त सचिव ओपी चौधरी ने एक नोटिस जारी कर इन खबरों का खंडन किया है। सोशल मीडिया पर अंडे व चिकन, मीट संबंधी अफवाह के कारण पोल्ट्री उद्योग प्रभावित हुए हैं। उन्होंने लिखा कि कुछ वीडियो भी सामने आए हैं, जिसमें किसान जीवित मुर्गे-मुर्गियों को मिट्टी में दबा रहे हैं। पोल्ट्री उद्योग को एक महीने में लगभग 13 हजार करोड़ का नुकसान हो चुका है।

PunjabKesari, Haryana

चौधरी ने बताया कि अंडे व चिकन प्रोटीन के सस्ते स्त्रोत हैं, जो शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में कारगर हैं। कोरोना वायरस से लडऩे के लिए लोगों को अच्छी इम्युनिटी की जरूरत है। हमने इस संबंध में पांच मार्च को पत्र में स्पष्ट कर चुके हैं कि कोरोना वायरस के मानव शरीर में पहुंचने की दुनिया में ऐसी कोई खबर नहीं आई है, जिसमें कोरोना अंडे, चिकन या मीट के सेवन से मानव शरीर में प्रवेश किया हो।



चौधरी ने सभी राज्यों की सरकारों से अनुरोध किया कि वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, टीवी, अखबार आदि के माध्यम से इस संबंध में व्यापक अभियान चलाएं, जिसमें स्पष्ट किया जाए कि अंडे व चिकन के सेवन से कोरोना वायरस नहीं फैलता बल्कि बच्चों व बुजुर्गों के लिए अच्छी इम्युनिटी का स्त्रोत हैं। चौधरी ने कहा कि इस कदम से पोल्ट्री किसानों को नुकसान से बचाया जा सकता है।  


Shivam

Related News