मुख्यमंत्री मनोहर लाल के औचक निरीक्षण से सीधा संदेश, "चौकीदार जाग रहा है, चोरों की खैर नहीं"

punjabkesari.in Sunday, Jan 30, 2022 - 08:44 PM (IST)

चंडीगढ़( चंद्रशेखर धरणी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबसे विश्वास पात्र मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने गत शनिवार रात्रि गुडगांव के कई सरकारी दफ्तरों में अचानक औचक निरीक्षण कर एक और जहां प्रदेश के अधिकारी- कर्मचारियों को एक सख्त संदेश दिया, वहीं प्रदेश की जनता को भी यह एहसास करवाया कि आपका चौकीदार पूरी वफादारी से आपकी सुरक्षा और सुविधाओं के लिए दिन-रात कार्यरत है।

लोकतंत्र में ऐसे उदाहरण बहुत कम देखने को मिलते हैं कि जब प्रदेश का नेतृत्व करने की भारी-भरकम जिम्मेदारी निभाने वाला व्यक्ति ही अचानक आमजन की सुविधाओं को देखने के लिए कार्यालयों में पहुंचा हो। क्योंकि राजा-महाराजाओं के समय के ऐसे किस्से अक्सर सुनने को मिलते हैं जब राजा स्वयं अचानक अपने या किसी दूसरे भेष में अचानक अपने राज्य के लोगों की समस्याओं को सुनने जा पहुंचा हो।

प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का ठहराव शनिवार रात्रि गुडगांव में ही था। इसी दौरान उन्होने डे एंड नाइट चलने वाली सर्विसेज के औचक निरीक्षण का मन बना लिया और वह बिना संबंधित अधिकारियों को सूचना दिए गुरुग्राम नगर निगम क्षेत्र में मशीनों से मेकैनाईजड सिवपिंग से सफाई व्यवस्था का औचक निरीक्षण करने पहुंच गए। दरअसल नगर निगम गुरुग्राम द्वारा रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक 13 सफाई मशीनें चलाई जा रही हैं। लेकिन जब मुख्यमंत्री वहांं पहुंचे तो तब तक मशीनें मौके पर नहींं पहुंची थी। क्योंकि मशीनों की ड्यूटी कुछ समय बाद शुरू होनी थी। लेकिन प्रदेश केे मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को सुबह तड़के ही इनकी कार्यशैली की रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए।

इसके बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जीएमडीए के इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के संचालन का जायजा लेने पहुंच गए। जहां उन्होंने लगभग 200 कैमरों की जांच-पड़ताल की। अधिकारियों ने उन्हें शनिवार के पूरे दिन में 32 चोरी हुई गाड़ियों के ट्रेस होने की और सभी गाड़ियों की सूचना जिला प्रशासन द्वारा पूरे गुरुग्राम में वीटी कर देने की भी बात बताई। जिससे मुख्यमंत्री काफी संतुष्ट नजर आए। इस मौके पर गुड़गांव के अधिकारियों ने बताया कि इन सीसीटीवी कैमरो से रोजाना दिन में ट्रैफिक रूल्स का उल्लंघना करने वाली लगभग 1000 गाड़ियों के चालान किए जाते हैं।

मुख्यमंत्री ने रात को भी ट्रैफिक रूल्स के उल्लंघना करने वालों के चालान करने के आदेश जारी किए। मुख्यमंत्री को अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि इस सेंटर से सिटी बस सर्विस की भी निगरानी की जा सकती है कि सिटी बस सर्विस कब - कहां से चली और किस-किस रूट पर सफर तय किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को फेस रिकगनिशन का सुझाव अधिकारियों को दिया। जिससे कैमरे के सामने आने वाले संदिग्ध व्यक्ति को तुरंत प्रभाव से प्रशासन काबू करके पूछताछ कर सके। मुख्यमंत्री मनोहर लााल ने बताया कि यह सुविधा फिलहाल गुड़गांव में शुरू नहीं हो पाई है, लेकिन करनाल में इसे शुरू कर दिया गया है।

सुबह तड़के नगर निगम गुरुग्राम के अधिकारीगण सफ़ाई व्यवस्था पर रिपोर्ट लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष पेश हुए और लोक निर्माण विश्राम गृह में लैपटॉप पर मेकेनाइजड सिवपिंग सिस्टम दिखाया। मुख्यमंत्री केवल इस रिपोर्ट से संतुष्ट नजर नहीं आए और उन्होंने शनिवार शाम की भी सफ़ाई व्यवस्था की रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए।


इस मौके पर किसानों द्वारा 31 जनवरी को एमएससी के लिए किए जाने वाले आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री ने बयान देते हुए कहा कि अपनी बात लोकतांत्रिक तरीके से -शांतिपूर्ण ढंग से कहना हर किसी व्यक्ति का लोकतांत्रिक अधिकार है। इसमें किसी को कोई परहेज नहीं है। कानूनों की मर्यादा में रहकर कोई भी व्यक्ति अपनी बात कह सकता है इसमें किसी को कोई कठिनाई नहीं है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिस तरह से बारीकी से देर रात छापा मारा व हाजरी तक चेक की,हाजरी रजिस्टर मांगा व पूरी पड़ताल की उससे अधिकारी वर्ग व कर्मचारियों की होश उड़ना स्वाभाविक है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static