फिर से हड़ताल पर गईं आंगनबाड़ी वर्कर्स- सरकार के विरोध का ऐलान, 5 जनवरी को होगी महारैली

punjabkesari.in Thursday, Dec 30, 2021 - 06:25 PM (IST)

करनाल (केसी आर्या): अपनी मांगों को लेकर हरियाणा प्रदेश की आंगनबाड़ी वर्कर्स पिछले कई दिनों से धरने पर थीं। वहीं बीते दिन बुधवार को आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन व सीएम मनोहर लाल की एक बैठक हुई। बैठक के बाद तमाम आंगनवाड़ी वर्कर्स सीएम मनोहर के साथ फोटो खिंचवाती नजर आई, लेकिन कुछ आंगनबाड़ी वर्कर आज फिर से हड़ताल पर बैठ गई हैं। आंगनबाड़ी वर्करों का कहना है कि करनाल में प्रदेश की आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर रैली का आयोजन कर भाजपा सरकार और मुख्यमंत्री का विरोध जताएंगी।

बैठक में सीएम के साथ सहमति न बनने पर 5 जनवरी की महारैली का आयोजन किया गया गया, जिसमें प्रदेशभर से 52 हजार आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर हिस्सा लेंगी। इस दौरान वे अपनी मांगों को रखेंगी और आगे की रणनीति बनाकर निर्णय लिया जाएगा। आंगनवाडी वर्कर यूनियन जिला प्रधान रूपा राणा ने कहा कि बैठक में हमारी कई यूनियन शामिल हुई थीं। सीएम ने हमारे साथ बातचीत की है, लेकिन वे उनसे खुश नहीं है।

रूपा राणा ने बताया कि हमने रिटायरमेंट पर आंगनबाड़ी वर्कर को एक लाख रुपये और हेल्पर को 50 हजार रुपये दिए जाने की मांग रखी है। उन्होंने कहा कि महंगाई भत्ते को बढ़ाने की बजाए सरकार ने उसका नाम बदल दिया और सालभर में केवल 400 रुपये ही बढ़ाए गए हैं। उन्होंने कहा कि सभी मांगों को लेकर 5 जनवरी को प्रदेश स्तरीय रैली का आयोजन किया जाएगा। सरकार को उनकी बाकी मांगों को भी मानना पड़ेगा। हमारी मुख्य मांग है कि कम से कम न्यूनतम वेतन दिया जाए।

यूनियन की जिला प्रधान ने कहा कि सीएम ने जो एलान किया है, वो हमारी मांग ही नहीं थी। हमारी मांग तो पक्का करने की है। न्यूनतम वेतन दिया जाए और रिटायरमेंट सम्मानजनक हो। उन्होंने कहा कि हमारी यूनियन सीएम के आश्वासन पर खुश नहीं है। 5 जनवरी को प्रदेश की 52 हजार वर्कर-हेल्पर आंदोलन में हिस्सा लेंगी।

वहीं आंगनवाड़ी वर्कर नेता मंजू बरेजा ने कहा कि सीएम साहब को बताना चाहूंगी कि ये विभाग जरुरतमंद लोगों का है। इसमें ज्यादातर विधवा बहनें हैं। उनकी सुबह पौने नौ बजे से पौने तीन बजे तक की ड्यूटी है। इसके बदले उन्हें 6 हजार रुपये मिलते हैं। हमारी मांग वेतन भत्तों को बढ़ाने की है। मंजू ने सवाल उठाते हुए कहा कि  क्या पूरा दिन काम करने का महीनेभर का 6 हजार में काम चल जाएगा?
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static