... तो इस वजह से हरियाणा में बढ़ाया गया लॉकडाउन, जो सरकार की बढ़ा रही चिंता

punjabkesari.in Sunday, May 23, 2021 - 07:23 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी):  हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश में महामारी अलर्ट/सुरक्षित हरियाणा (लॉकडाउन) को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है। रविवार को चीफ सेक्रेटरी ने इस बारे आदेश जारी किए हैं। इस बार महामारी अलर्ट/सुरक्षित हरियाणा में कुछ छूट दी गई है। बड़े बाजारों से अलग-थलग दुकानें दिन में खुल सकेंगी। नाइट कर्फ्यू समय से पहले तक यह दुकानें खुली रहेंगी। बड़े बाजारों में ऑड ईवन फार्मूले के हिसाब से सुबह 7 बजे से 12 बजे तक दुकानें खुलेगी।

हरियाणा में महामारी अलर्ट/सुरक्षित हरियाणा का इम्पेक्ट नजर आने लगे हैं। तीन सप्ताह पूर्व जब लॉकडाउन शुरू किया गया तब रोजाना 16 हजार कोरोना पॉजिटिव मिल रहे थे। यह आंकड़ा 3 हफ्तों में अब 5 हजार के करीब रह चुका है। तीन सप्ताह पूर्व अस्पतालों में बेड्स व ऑक्सीजन की भारी दिक्कत थी। आज ऐसी परिस्थितियां नहीं है। राज्य में एक्टिव केस तीन सप्ताह में 1 लाख 8 हजार से 54 हजार पर जा पहुंचे हैं। 

PunjabKesari, haryana

महामारी अलर्ट में हरियाणा के गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज इम्पेक्ट स्पष्ट रूप नजर आ रहा है। अनिल विज ने हरियाणा में बढ़ते कोरोना पॉजिटिव के मामलों को देख कर ही शुरू में लॉक डाउन की वकालत की। मजबूरी यह थी कि प्रतिदिन पॉजिटिव केस का बढ़ता आंकड़ा व मृत्यु दर। सूत्रों के अनुसार अनिल विज के इस स्टैंड के साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की राय व समर्थन भी रहा। ताकि जनता को बचाया जा सके। 

महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा (लॉकडाउन) निरंतर जारी रहने के पीछे आज के हालात में सबसे ज्यादा चिंतनीय स्थिति पॉजिटिव केस को लेकर है। हरियाणा में प्रतिदिन पॉजिटिव रेट 8.62% है, जो कि सरकार की चिंता की रेखाएं बढ़ा रहा है। मेडिकल एक्सपर्ट्स भी मानतें हैं कि 5 % से ज्यादा पॉजिटिव दर कभी भी री-स्प्रेडिंग दोबारा बढ़ा सकती है। हरियाणा में 5 % से कम पॉजिटिव दर लाई जाए, इसके लिए कड़े व सख्त कदमों की जरूरत है।

पहले दिन से हरियाणा के गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज व मुख्यमंत्री मनोहरलाल सभी घटनाक्रमों पर बारीकी से खुद नजर रखे हुए हैं। महामारी अलर्ट सुरक्षित हरियाणा (लॉकडाउन) के दौरान इसके सार्थक परिणाम आने से सरकार के प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा भी पूरा मूल्यांकन किया जा रहा है। शराब के ठेके बन्द होने से राजस्व की कमी, रोडवेज व कई विभागों की व्यवस्थाएं चर मरा कर रह गई है। हरियाणा सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहे शब्दों जान है तो जहान है के फार्मूले पर आगे बढ़ रही है। 

PunjabKesari, haryana

कोरोना से चल रही लड़ाई अभी खत्म भी नहीं हुई कि एक दूसरी महामारी ने प्रदेश में दस्तक दे दी है। हालांकि प्रदेश सरकार पूरी तरह से अलर्ट मोड़ पर है। सरकार ने इसके लिए पुख्ता प्रबंध अभी से करने शुरू कर दिए गए हैं। अब कोरोना के इलाज के बाद उभरकर सामने आ रही बीमारियों ने सरकार के होश फाख्ता कर दिए हैं। जिसमें एक बीमारी है ब्लैक फंगस। जिसका वैज्ञानिक नाम म्यूकोरमाईकोसिस है। जो एक बहुत घातक बीमारी है।

इसके लक्षण जुखाम होना, नाक बंद होना, नाक में से खून आना, आंखों में सूजन आना और दिखने में कमी आना है। अगर इसका सही समय पर इलाज न हो तो यह व्यक्ति को अंधा भी कर देती है। इसी गंभीरता को देखते हुए ब्लैक फंगस बीमारी इलाज के लिए सरकार ने अपने हर तंत्र को एक्टिवेट कर दिया है।

अनिल विज ने बताया कि प्रदेश सरकार इस मामले में ढीला रवैया नहीं अपना रही। ब्लैक फंगस बीमारी में जो दवा अधिक असरदार है वह जितनी मात्रा में चाहिए मार्केट में इतनी मौजूद नहीं है। हमें मार्केट से ज्यादा मात्रा में नहीं मिल पाई। जिसके कारण हमने कल एक बैठक की और डायरेक्ट इंपोर्ट करने का फैसला किया है। इसके लिए कार्यवाही शुरू कर दी गई है। 

PunjabKesari, haryana

उन्होंने कहा कि हमने दवा की एक करोड़ खुराक के आयात का फैसला किया है। हालांकि केंद्र सरकार भी इस दवा को इंपोर्ट कर रही है। हमने वहां भी एप्लीकेशन लगाई है। जहां से हमें कुछ डोज मिली भी हैं। जिसमें इलाज के लिए एक मनोवैज्ञानिक, फिजियोथेरेपिस्ट तो रखे ही जाएंगे। साथ ही प्राणायाम करवाने के लिए एक योगा टीचर भी यहां लगाया जाएगा। क्योंकि कोरोना के बाद होने वाली इस बीमारी में प्राणायाम बहुत फायदेमंद साबित हुआ है। यह सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है और सोमवार से हम इसे प्रारंभ कर देंगे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vinod kumar

Related News

Recommended News

static