अजय सिंह के पास जेल में है दुष्यंत का इस्तीफा : अभय चौटाला

2/23/2021 10:11:42 AM

हांसी/बास: यह कहने वाले कि दुष्यंत चौटाला का इस्तीफा उनकी जेब में है, अब उस इस्तीफे को लेकर अजय सिंह जेल में चले गए हैं। अब दुष्यंत इस्तीफा कहां से देगा। सोशल मीडिया पर लोग कमैंट कर रहे हैं कि दुष्यंत चौटाला स्पीकर के पास इस्तीफा देने के लिए चले गए, लेकिन जब जेब हाथ डाला तो इस्तीफा नहीं मिला। क्योंकि इस्तीफा अजय सिंह के पास जेल में है। इस सरकार में रजिस्ट्री, शराब जैसे बड़े 9 घोटाले हुए हैं। उक्त शब्द इनैलो के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने बास क्षेत्र के गांव सोरखी में आयोजित किसान सम्मान समारोह में कहे। किसानों द्वारा सरपंच वीरेंद्र बेरवाल की अध्यक्षता में अभय सिंह चौटाला को किसान आंदोलन के समर्थन में विधायक पद से इस्तीफा देने को लेकर सम्मानित किया गया।

इनैलो प्रधान महासचिव चौटाला ने कहा कि भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार ने लोगों को लॉकडाऊन में भी परेशान किया। शराब घोटाला ऐसे समय में हुआ है जब लोग घरों से बाहर भी नहीं निकल सकते थे तो शराब गोदामों से निकाली गई। 100 रुपए की बोतल 500 में बेची गई। उन्होंने मुख्यमंत्री से पूछा था कि धान में 250 रुपए प्रति क्विंटल की जो किसानों की कटौती का डाका मारा जा रहा है वह पैसा किसकी जेब में जा रहा है। उसका आज तक उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। किसानों के मुद्दे पर भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार के साथ-साथ कांग्रेस भी दोषी है, क्योंकि उन्होंने विधानसभा में तीनों कृषि बिलों पर बहस करने की बजाय विधान सभा से वॉकआऊट किया। मनमोहन सरकार के दौरान जो कृषि ड्राफ्ट कांग्रेस लाना चाहती थी। उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

उन्होंने उनका विरोध किया था और कंपनियों को गुजरात मे लाइसैंस नहीं दिया था। उस समय रोहतक से सांसद रहे दीपेंद्र हुड्डा ने उन कंपनियों को हरियाणा में लाने का प्रस्ताव दिया था। उन्होंने किसानों से आह्वान किया कि दिल्ली के बॉर्डर पर ज्यादा से ज्यादा किसान पहुंचें, क्योंकि यह असल में किसान की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि किसानों व आमजन के हितों से बढ़कर उनके लिए कोई सम्मान और पद नहीं है। आमजन की आवाज उठाने में कभी पीछे नहीं रहेंगे। चौटाला ने सम्मान समारोह में प्रदेश की भाजपा-जजपा सरकार पर भी प्रहार करते हुए कहा कि प्रदेश के युवाओं को नौकरियों में 75 प्रतिशत आरक्षण देने के दावे करने वालों की पोल खुल गई है।

अभी बिजली विभाग में एस.डी.ओ. की 99 पदों की भर्तियों में केवल 22 युवा ही हरियाणा के हैं, शेष सभी बाहर के हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा-जजपा सरकार प्रदेश के युवाओं को केवल चपरासी बनाना चाहती है अधिकारी नहीं। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी, पूर्व मंत्री श्याम सिंह राणा, प्रकाश भारती, सतबीर सिसाय, रणबीर लोहान, राज सिंह मोर, सरपंच बीरेंद्र बेरवाल, राजीव राजा, राजेश गोदारा, सुनील लाम्बा, राजकुमार, प्रताप बड़छप्पर, यशपाल मोर, नरेंद्र प्रजापति, युद्धवीर आर्य, देवीलाल सिहाग, सुभाष सोरखी, बलबीर सिहाग, प्रवक्ता रमेश चुघ आदि भी मौजूद रहे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


Content Writer

Isha

Related News