फरीदाबाद : 5 गुणा हुआ प्रदूषण का स्तर, सांस लेने में हो रही परेशानी

10/23/2020 10:04:35 AM

फरीदाबाद (दीपक पांडेय) : प्रतिदिन फरीदाबाद और बल्लभगढ़ में प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। जिससे आने वाले दिनों में सांस के मरीजों का अधिक परेशानी हो सकती है। हवा की गति कम होने के कारण प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है। गुरुवार को फरीदाबाद का एयर क्वालिटी इंडेक्स 315 तक पहुंच गया। हालांकि बल्लभगढ़ क्षेत्र में अब एयर क्वालिटी इंडेक्स में कुछ सुधार हुआ है। यहां पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 279 दर्ज किया गया।

जिले में गुरुवार को मौसम में बदलाव हुआ है। दिन पर हवा की गति भी बहुत कम रही, जिसका असर प्रदूषण पर देखने को मिला है। गुरुवार को फरीदाबाद का एयर क्वालिटी इंडेक्स 315 दर्ज किया गया, जो बुधवार की तुलना में 13 अंक अधिक है। बुधवार को फरीदाबाद का एयर क्वालिटी इंडेक्स 302 दर्ज किया गया था। अलग - अलग क्षेत्रों को देखा जाए तो सेक्टर 11 क्षेत्र सबसे प्रदूषित रहा। सेक्टर 11 में एयर क्वालिटी इंडेक्स 362 दर्ज किया गया।

वहीं, सेक्टर 16 क्षेत्र में 280, सेक्टर 30 क्षेत्र में 295 और एनआईटी क्षेत्र में एयर क्वालिटी इंडेक्स 310 दर्ज किया गया। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में फरीदाबाद रीजन की रीनजल ऑफिसर स्मिता ने बताया कि प्रदूषण नियंत्रण के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। हमारी टीमें अलग -अलग क्षेत्रों में गस्त कर नजर बनाए हुए हैं। गुरुवार को इंडस्ट्रियल एरिया में जाकर टीमों ने मुआयना किया। प्रदूषण से संबंधित कोई भी गतिविधि दिखाई देने पर तुरंत नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

इस सप्ताह की शुरूआत में बल्लभगढ़ क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया था। दो दिन यह क्षेत्र प्रदूषण के मामले में टॉप पर रहा, लेकिन अब पिछले दो दिनों से यहां पर एयर क्वालिटी इंडेक्स में गिरावट दर्ज की जा रही है। गुरुवार को फरीदाबाद का एयर क्वालिटी इंडेक्स 279 दर्ज किया गया। अधिकारियों के अनुसार बल्लभगढ़ में जिस जगह प्रदूषण मापने की मशीन लगी हुई है। उसके आसपास धूल काफी उड़ती है, जिससे वहां पर प्रदूषण अधिक हो रहा था।

रीजनल ऑफिस दिनेश कुमार ने बताया कि हमने डस्ट वाली साइटों को चिन्हित किया। इनमें अग्रवाल धर्मशाला के साथ बना ऑटो स्टेंड, दशहरा मैदान, लघु सचिवालय की निर्माणाधीन साइट व मुख्य सड़कें शामिल हैं। इन जगहों पर वॉटर स्प्रिंकलर से पानी की छिड़काव कराया गया है। लघु सचिवालय की साइट पर निर्माण सामग्री को ढकवाया गया है और प्रदूषण नियंत्रण के इंतजाम करने के लिए गया है। इसी वजह से अब यहां पर एयर क्वालिटी इंडेक्स में सुधार होने लगा है। हम आने भी प्रदूषण नियंत्रण से संबंधित गतिविधियों को जारी रखेंगे।


Manisha rana

Related News