बेटी की शादी में किसान ने BJP-JJP व RSS के लोगों को दी चेतावनी, बोले- विवाह से रहें दूर

11/25/2021 12:52:57 PM

झज्जर(प्रवीण धनखड़): बेशक पीएम नरेन्द्र मोदी ने कृषि कानूनों को वापिस लिए जाने की घोषणा कर दी हो और उसे कैबिनेट में भी रद्द करने पर मुहर लगवा दी है। लेकिन कृषि कानूनों व आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की पीड़ा का दंश अभी भी किसानों के चेहरे पर साफ देखने को मिल रहा है। झज्जर के गांव ग्वालीशन के एक किसान राजेश ने इसी पीड़ा पर दुख जाहिर करते हुए अपनी बेटी की शादी के लिए छपवाएं गए कार्ड में सत्ताधारी भाजपा और जेजेपी के नेताओं को शादी-समारोह से दूर रहने की चेतावनी लिखवा दी है। इतना हीं नहीं उन्होंने यह भी कहा है कि यदि उक्त पार्टियों का कोई भी नेता समारोह में आता है तो उसे घुसने नहीं दिया जाएगा। 

PunjabKesari
शर्म की बात कि किसानों को कहा गया खालिस्तानी
जानकारी के अनुसार राजेश धनखड़ विश्ववीर जाट महासभा के  राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके है।  किसान राजेश आंदोलन के दौरान जिस तरह से किसानों पर आंसू गैस,लाठियां बरसाने और पानी की बौछारें छोड़े जाने से आहत दिखाई दिए। उन्होने कहा कि कितनी शर्म की बात है कि आंदोलनकारी किसानों को खालिस्तानी,पाकिस्तानी की संज्ञा दी गई। कृषि कानून वापिस लिए जाने के सवाल पर तपाक से जवाब देते हुए राजेश धनखड़ ने कहा कि यह एक ऐसा मामला है कि किसी आदमी को पहले फांसी पर लटका दिया जाए और फिर बाद में उसे फांसी से नीचे उतारकर कहा जाए कि उसे जीवनदान दे दिया गया है। 

PunjabKesari
एमएसपी के बगैर किसान जिंदा नहीं रह पाएगा 
किसान राजेश का यह भी कहना था कि एमएसपी के बगैर किसान जिंदा नहीं रह पाएगा और किसान की लड़ाई एमएसपी गारंटी कानून बनने तक जारी रहेगी। उन्होंने यह भी कहा कि सरकारी गलत नीतियों की वजह से किसान बर्बाद हुआ है। कारण कि दिल्ली की सलतनत पर बैठने वाली हर पार्टी ने किसान को मारने का काम किया है। उन्होंने कहा कि यदि उसके परिवार या फिर कोई रिश्तेदार भी भाजपा,आरएसएस और जेजेपी का सदस्य हुआ तो उसे भी समारोह में घुसने नहीं दिया जाएगा। राजेश के अनुसार जिस बेटी की शादी है वह उसकी बेटी न होकर आंदोलन में शहीद होने वालेे उन साढ़े सात सौ किसानों की बेटी है जिन्होंने आंदोलन में अपनी जान गंवाई है। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static