सरकार के इशारे पर फोड़े किसानों के सिर, काले झंडे दिखाना अपराध नहीं अधिकार: कुमारी शैलजा

punjabkesari.in Friday, Sep 03, 2021 - 09:46 AM (IST)

घरौंडा : कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने लाठीचार्ज की घटना के बाद सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े किए हैं। वीरवार को बसताड़ा टोल पर किसानों के बीच पहुंची कुमारी शैलजा ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बसताड़ा टोल प्लाजा पर लंबे समय से किसान धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन आज तक हिंसा नहीं हुई लेकिन 28 अगस्त को सरकार ने पहले ही तय कर लिया था कि किसानों के सिर फोडऩे हैं और हुआ भी वैसा ही। पुलिस ने सरकार के इशारे पर न सिर्फ किसानों पर लाठियां चलाई बल्कि उनके सिर भी फोड़े जिसमें कई किसान घायल हुए।

उन्होंने सरकार को नसीहत देते हुए कहा कि सरकार कभी भी जिद्द से नहीं चल सकती है। काले झंडे दिखाना कोई अपराध नहीं है बल्कि प्रत्येक नागरिक का अधिकार है। इसके अलावा जिन अधिकारियों ने सरकार के इशारे पर किसानों के सिर फोडऩे जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया है वे अपराधी हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। अधिकारी का केवल तबादला किया गया है जिससे स्पष्ट है कि इन पूरे प्रकरण के लिए सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि सरकार ने तीन कृषि कानून पारित किए। जिसकी वजह से यह स्थिति पैदा हुई है। राहुल गांधी ने पहले दिन से ही इन कानूनों का विरोध किया और स्पष्ट तौर पर किसानों के साथ खड़ा होने की बात की और आज देश व प्रदेश में कांग्रेस पार्टी किसानों के साथ खड़ी है। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static