IGI एयरपोर्ट से हिसार हवाई अड्डे तक चलेगी फास्ट ट्रेन, सीएम ने रेल मंत्री से मुलाकात के बाद दी जानकारी

punjabkesari.in Monday, Jan 10, 2022 - 06:54 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी): नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से हिसार में बनाए जा रहे महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल एयरपोर्ट तक हाई स्पीड ट्रेन की कनेक्टिविटी मिलेगी। फास्ट ट्रेन चलाने के लिए केंद्रीय रेल मंत्रालय ने सहमति दी है। सीएम मनोहर लाल खट्टर ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव तथा केंद्रीय पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव से हरियाणा के प्रोजेक्ट्स को लेकर मुलाकात की।

मुलाकात के बाद सीएम मनोहर ने कहा कि हरियाणा में इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ रहा है। रोड ही नहीं रेल के भी कई नए प्रोजेक्ट हरियाणा में चालू होंगे। दिल्ली से हिसार तक नई रेल लाइन पर केंद्रीय रेल मंत्री तैयार हैं। इस रूट पर फॉस्ट ट्रेन चलेगी, जिससे हिसार एयरपोर्ट और दिल्ली एयरपोर्ट के बीच सीधा संपर्क बनेगा। सीएम ने कहा कि दोनों कॉरिडोर ईस्टर्न और वेस्टर्न हरियाणा से निकलते हैं। इन पर दस नए रेलवे स्टेशन बनेंगे।



रोहतक में बनाए गए देश के पहले एलिवेटेड रेल ट्रैक के नीचे खाली जमीन पर सड़क बनाने पर भी सहमति बन गई है। ट्रैक के नीचे रेलवे की जमीन है और राज्य सरकार ने यहां फोर लेन की सड़क बनाने का निर्णय लिया था। इस बीच रेलवे मंत्रालय की ओर से इस जमीन के लिए पैसों की डिमांड की गई। सीएम ने इस बाबत रेल मंत्री को पत्र भी लिखा था और सोमवार को अश्वनी वैष्णव से मुलाकात के दौरान उन्होंने यह मुद्दा उठाया।

रोहतक के बाद कुरुक्षेत्र तथा कैथल में भी एलिवेटेड रेल ट्रैक बनाने का निर्णय सरकार ने लिया है। कुरुक्षेत्र की मंजूरी रेल मंत्रालय से मिल चुकी है और कैथल के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करके भेजी जाएगी। डीपीआर के लिए केंद्रीय रेल मंत्रालय ने परमिशन दे दी है। नए रेल प्रोजेक्ट के लिए पृथला और जमीन में भूमि अधिग्रहण करने की जरूरत है। यह काम हरियाणा सरकार करेगी। यह लिंक बनने के बाद यह एरिया इकोनॉमी कॉरिडोर से जुड़ेगा।

PunjabKesari, Haryana

प्रदेश की मौजूदा इंडस्ट्री को सीएनजी और पीएनजी से एक साल की छूट
सीएम ने केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव के सामने हरियाणा के उद्योगों को लेकर बात रखी। दरअसल, अब इंडस्ट्री में पीएनजी और सीएनजी को अनिवार्य किया है। सीएम के आग्रह के बाद केंद्रीय मंत्री ने प्रदेश की मौजूदा इंडस्ट्री को इसके लिए एक साल की छूट देने की मंजूरी दी है। नजफगढ़ ड्रेन पर डिसिल्टिंग के लिए भी केंद्रीय मंत्री के सामने मुद्दा उठाया। हरियाणा, दिल्ली और केंद्र सरकार इसके लिए मिलकर काम करेंगे। यहां बाद में बांध भी बन जाएगा।

दरअसल, नजफगढ़ ड्रेन की वजह से गुरुग्राम में लगभग 3000 एकड़ जमीन में पानी फैल जाता है। इसका रास्ता निकालने के लिए समझौता भी हुआ था लेकिन इस पर अमल नहीं हुआ। वहीं इस दौरान केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, केंद्र और हरियाणा में डबल इंजन की सरकार है। इसका फायदा हरियाणा को मिल रहा है और आगे भी मिलता रहेगा। हरियाणा ने रेल कनेक्टिविटी को लेकर जो विषय मंत्रालय के समक्ष रखे हैं, हमने भी उनका निवारण तारीखों के साथ समयबद्ध तरीके से करने का आश्वासन दिया है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static