गोसेवकों ने लंपी पीड़ित गाय को नगरपरिषद कार्यालय में बांधकर जताया रोष

punjabkesari.in Friday, Oct 07, 2022 - 11:47 AM (IST)

चरखी दादरी (पुनीत) : सरकार व प्रशासन द्वारा गायों में लंपी बीमारी के समाधान व अन्य मांगों को पूरा करने के आश्वासन के बाद भी लंपी पीड़ित गायें सडक़ों पर घूम रही हैं। गोसवेकों ने लंपी पीड़ित  गाय को शहर से प्रदर्शन करते हुए नगर परिषद कार्यालय में लाकर बांध दिया और रोष प्रदर्शन किया। साथ ही अल्टीमेटम दिया कि जल्द समाधान नहीं होने पर पूरे दादरी शहर की लंपी पीड़ित गायों में नगर परिषद कार्यालय में छोड़ दिया जाएगा।

गोसेवक रिंपी फौगाट की अगुवाई में गोसेवकों ने शहर के रोहतक चौक के पास लंपी बीमारी से तड़प रही गाय को लेकर नगर परिषद कार्यालय पहुंचे। यहां गोसेवकों ने आरोप लगाया कि पिछले कई दिनों तक गायों में लंपी बीमारी के समाधान व अन्य मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन करते हुए सांकेतिक भूख हड़ताल की थी। एक गोसेवक द्वारा आत्मदाह की चेतावनी देने के बाद प्रशासन ने उचित समाधान का आश्वासन दिया था। इसके बावजूद कोई समाधान नहीं हुआ तो वह लंपी पीड़ित गाय को लेकर नप अधिकारियों के समक्ष लाए हैं। 

रिंपी फौगाट कहा कि पूरे दादरी शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में सैंकड़ों गायें लंपी व अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं। अभी गाय को नगर परिषद कार्यालय में लेकर पहुंचे तो चिकित्सकों ने दवा लगा दी। ऐसा ही रहा तो अन्य गायों को नप अधिकारियों की गाडिय़ों पर बांधेंगे। साथ ही अल्टीमेटम दिया कि जल्द समाधान नहीं हुआ तो दादरी शहर से लंपी व अन्य कारणों से बीमार गायों को नगर परिषद कार्यालय छोडक़र बड़ा आंदोलन किया जाएगा। 

वहीं नगर परिषद के ईओ राजेश कुमार ने बताया कि लंपी बीमारी से संबंधित गायों को रखने के लिए कई स्थानों का निरीक्षण किया गया है। उच्चाधिकारियों को गायों के संरक्षण पर होने वाले खर्च बारे पत्र लिखा गया है। लंपी पीड़ित गायों को नगर परिषद की बजाए पशु चिकित्सालय में लेकर जाना चाहिए था। नगर परिषद सिर्फ सहयोग कर रही है, संबंधित विभाग की जिम्मेदारी बनती है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static