हरियाणा के सीएम खट्टर ने किया परिवार पहचान पत्र योजना का शुभारंभ, जानिए क्या होंगी खासियतें

8/4/2020 6:33:36 PM

पंचकूला (उमंग): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को पंचकूला में मेरा परिवार-समृद्ध परिवार के तहत परिवार पहचान पत्र वितरण योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के अंतर्गत हरियाणा प्रदेश के 56 लाख परिवारों को अगले तीन माह के भीतर परिवार पहचान पत्र बना कर दिया जाएगा, इसके लिए अगस्त माह के अंतिम सप्ताह में चार दिवसीय कैंप लगाकर भी परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से इस योजना का प्रदेश स्तरीय शुभारंभ किया।

पंचकूला में मुख्यमंत्री मनोहर ने बीस परिवारों को परिवार पहचान पत्र सौंपे। योजना के शुभारंभ के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि ये फैसला हमने 2019 में ही किया था। प्रदेशभर के सभी परिवारों का डाटा परिवार पहचान पत्र के नाते बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि  प्रदेश और केंद्र सरकार की योजनाएं बिना किसी परेशानी के लाभार्थी तक पहुंचे, यह इसका मकसद है। परिवार पहचान पत्र के जरिए 3 महीने में सभी सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। परिवार पहचान पत्र के जरिए भ्रष्टाचार खत्म होगा और साथ ही लाभार्थियों को आने वाले दिक्कतें भी दूर होंगी। 

PunjabKesari, khattar

सीएम ने कहा कि परिवार पहचान पत्र देने के बाद हर योजना के लिए अलग-अलग फार्म भरने की आवश्यकता नहीं होगी, किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए परिवार पहचान पत्र ही देना होगा। परिवार पहचान पत्र का उद्देश्य हरियाणा में सभी परिवारों का एक प्रामाणिक सत्यापित और विश्वसनीय डाटा बेस तैयार करना है। इसके साथ सभी कल्याणकारी योजनाओं को जोड़ा जाएगा ताकि हर परिवार को सभी सरकारी योजनाओं के लाभ विश्वसनीयता के साथ मिलता रहे।

परिवार पहचान पत्र की खासियतें-
हरियाणा में सभी परिवारों की मौलिक जानकारी का डिजिटल तौर पर संग्रहण होगा।
पात्र लाभार्थियों को सभी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा।
पहचान पत्र की जानकारी गोपनीय और सुरक्षित होगी। 
जरूरतमंद परिवारों को घर बैठे सरकारी योजनाओं की पूरी जानकारी मिलेगी।
सभी नागरिकों को 8 अंकों का पहचान नंबर जारी होगा।

इससे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा और डुप्लीकेट की संभावना कम होगी।
सभी योजनाओं का लाभ एक ही पहचान पत्र से मिलेगा। 
बार-बार दूसरे पहचान पत्र प्रमाण दिखाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
पहचान पत्र के साथ वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, महिला पेंशन और  दिव्यांग पेंशन योजना को जोड़ा जा चुका है।

सीएम मनोहर ने कहा कि केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार की बहुत योजनाएं होती है, सभी विभागों के पास अलग अलग डाटा होता है। लेकिन पात्र व्यक्ति को स्कीम का लाभ नहीं मिलता, डुप्लिकेसी बहुत होती है। सभी योजनाओं का लाभ योग्य व्यक्ति को मिले, तभी विचार आया था कि सभी परिवारों का एक ही डाटाबेस हो।


Shivam

Related News