कृषि कानूनों के रद्द होने पर हरियाणा के नेताओं ने की ट्वीट्स की बारिश, पढ़िए किसने क्या कहा

punjabkesari.in Friday, Nov 19, 2021 - 11:55 AM (IST)

डेस्क: पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में आज तीनों कृषि कानून को वापस लेने का ऐलान कर दिया।   कृषि कानूनों के खिलाफ किसान पिछले साल नवंबर से ही आंदोलन कर रहे थे. करीब सालभर से चल रहे आंदोलन के आगे सरकार को झुकना पड़ा और तीनों कानूनों को निरस्त करना पड़ा। इस संबंध में हरियाणा के सभी नेताओं ने ट्वीट कर मोदी का धन्यावाद किया। आइए आपको बताते है किसने क्या कहा:

PunjabKesari

हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने ट्वीट करते हुए लिखा कि " गुरुपर्व के पवित्र अवसर पर कृषि कानूनों को वापस लेने के केंद्र सरकार के फैसले का हम स्वागत करते हैं। सामाजिक शांति और भाईचारे की बहाली के लिए यह कदम सराहनीय है। मैं सभी किसान जत्थेबंदियों से धरना समाप्त करने का आग्रह करता हूँ. हम किसान हित के लिए हमेशा प्रयास करते रहेंगे"

PunjabKesari

इनेलो नेता अभय चौटाला ने कहा कि " केंद्र सरकार द्वारा तीन काले कानून वापिस लेने के फैसले का स्वागत करते हैं। किसान-कमेरे के संघर्ष की जीत को सलाम करता हूँ और इस आंदोलन में शहीद हुए सभी किसानों को शत-शत नमन! केंद्र सरकार को MSP का लिखित कानून बनाना चाहिए और किसानों पर दर्ज सभी केस भी वापिस लेने चाहिए"।

PunjabKesari
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि आज एक बार फिर अन्नदाताओं के सत्याग्रह ने अहंकारी सत्ता को लोकतंत्र की शक्ति के आगे झुकने को मजबूर कर दिया। यह जीत किसान व मजदूर भाइयों की ही नहीं बल्कि भारतीय लोकतंत्र, हमारे संविधान और सत्य की जीत है।


बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ओ.पी धनखड़ ने ट्वीट करते हुए एक वीडियो भी सांझा किया। गुरु पर्व पर बड़ा मन दिखाते हुए प्रधानमंत्री श्री  नरेन्द्र मोदी जी के तीनों कृषि कानून वापस लेने के फैसले का स्वागत एवं अभिनंदन।

PunjabKesari
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा" किसान की जय ! किसान है अजय !! संघर्ष जीता, अहंकार हारा ! सत्यमेव जयते !!!"

PunjabKesari

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि" प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव पर तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा पर सभी किसान संगठनों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार प्रकट करना चाहिए और अपने धरने तुरंत उठाकर अपने अपने घरों को जाकर अपने नियमित कामों में लगना चाहिए"।




 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static