नहर में नहाने गए थे मामा भांजा, डूबने से भांजे की हुई मौत, 4 घंटे बाद मिला शव

9/21/2020 12:39:05 PM

थानेसर : रविवार को नरवाना ब्रांच किरमिच में नहाते हुए मामा-भांजा नहर में डूब गए, जिसमें मामा को नहर से एक राहगीर ने लगभग आधा एकड़े दूरी पर पगड़ी की मदद से जीवित बचा नहर से बाहर निकाल लिया किंतु भांजे के बाहर नहीं निकाल पाया जोकि पानी के तेज बहाव में आगे वह गया औऱ लगभग 2 घंटे बाद भांजे को गोताखोर प्रगट सिंह ने मृत अवस्था में नहर से निकाल पुलिस सुपुर्द किया। घटना की सूचना एरिया पुलिस को कंट्रोल रुम से मिलते ही मौके पर पहुंची और गोताखोर प्रगट व उसके साथियों की मदद से सर्च शुरु किया।

आदर्श थाना से पहुंचे ए.एस.आई. कर्मवीर ने बताया कि बारना निवासी राजू पुत्र कूड़ा राम के घर उसका भांजा अमन (16) 12वीं कक्षा का छात्र पुत्र बलजीत निवासी गांव स्पेड़ा जिला अंबाला शनिवार को अपनी माता के साथ आया हुआ था। ऐसे में भांजा अमन व उसका मामा राजू बारना नहाने के लिए नरवाना ब्रांच किरमिच नहर में सुबह 9 बजे पहुंच गए। दोनों मामा-भांजा नहर में नहा रहे थे कि अचानक दोनों पानी के तेज बहाव में बह गए। जिस पर दोनों ने खुद को बचाने के लिए शोर भी मचाया। इस दौरान हथीरा निवासी जसपाल नगर की पटरी के पास से गुजर रहा था। जसपाल  ने सिर पर बांधी पगड़ी व कुछ राहगीरों की मदद से दोनों को बचाने का प्रयास किया, जिसमें राजू बारना को तो लगभग आधा एकड़ दूरी से नहर से बाहर निकाल लिया किंतु भांजे अमन को बचा नहीं पाए।

4 घंटे बाद गोताखोरों ने निकाला अमन का शव 
सूचना के बाद आदर्श थाना से ए.एस.आई. कर्मवीर, हैडकांस्टेबल जुगल किशोर, सिपाही आनंद मौके पर पहुंचे। उन्होंने इसकी सूचना गोताखोर प्रगट सिंह को दी, जिन्होंने नहर में डूबे अमन की तलाश कर गोपी, नरेंद्र व बबी के सहयोग से करीब 4 घंटे के बाद शव मिला। इस दौरान नहर में डूबे अमन के नाना कूड़ा राम बारना भी गांव के मौजिज लोगों के साथ मौके पर पहुंच गए। इस कार्य में उसके साथी गोपी, नरेंद्र व बबी ने सहयोग किया। 


Manisha rana

Related News