एक दिन की राहत देने के बाद खोरी में तोड़े गए 500 से अधिक मकान

8/3/2021 9:54:20 AM

फरीदाबाद (ब्यूरो): खोरी गांव में एक दिन की राहत देने के बाद नगर निगम ने सोमवार को फिर से तोडफ़ोड़ शुरू कर दी। सोमवार को शुक्र बाजार की तरफ बने मकानों को बुलडोजर ने ध्वस्त कर दिया। इस दौरान करीब 500 मकान तोड़े गए। तोडफ़ोड़ कार्रवाई के साथ ही करीब 90 फीसदी अवैध कब्जों को साफ करवा दिया गया है।

अब केवल 10 फीसदी कब्जा बचा है जो दिल्ली-फरीदाबाद के सीमा विवाद में फंसा हुआ है। पैमाइश की रिपोर्ट के आधार पर यहां भी जल्द कार्रवाई शुरू होगी। इस बीच लोगों ने गलियों में इकट्ठा होकर विरोध प्रदर्शन करने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। इस दौरान कुछ लोगों को घरों को बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी गई। करीब सात घंटे चली कार्रवाई में झुग्गी झोपड़ी सहित कई दो-दो, तीन-तीन मंजिल के मकान को भी तोड़ दिया। यह कार्रवाई दिल्ली लाल कुंआ स्थित दो नंबर चुंगी तक की गई।

अरावली वन क्षेत्र में बसे खोरी गांव में करीब 10 हजार मकान है। सात जून को सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा सरकार और नगर निगम को वन क्षेत्र के अवैध मकानों को तोडफ़ोड़ कर जंगल की जमीन को फिर से जंगल बनाने के आदेश दिए थे। कोर्ट के आदेश पर नगर निगम की ओर से 20 दिन से खोरी गांव में तोडफ़ोड़ कार्रवाई की जा रही है। रविवार को बारिश के कारण तोडफ़ोड़ दस्ते को एक दिन का आराम दिया गया था। इसके साथ ही तोडफ़ोड़ कार्रवाई स्थगित कर दी गई थी।  सोमवार सुबह एक बार फिर निगम का तोडफ़ोड़ दस्ता भारी पुलिस बल के साथ गांव पहुंचा गया।

मशीनों व पुलिस को देखकर डरे-सहमे लोग अपने घरों से बाहर निकलने के लिए तैयार नहीं थे। पुलिस ने बल प्रयोग कर लोगों को उनके घरों से बाहर निकाला और तब जोकर उनके मकानों को ढहाने की कार्रवाई शुरू हो पाई। निगम की टीम ने शुक्र बाजार से दिल्ली लालकुंआ दो नंबर चुंगी तक तोडफ़ोड़ की। इस दौरान सात पोपलैंड और सात जेसीबी मशीन की मदद से घरों को तोड़ा गया। मौके पर कुछ लोगों ने तोडफ़ोड़ कार्रवाई का वरिोध कयिा। लेकिन, पुलिस के आगे लोगों की एक न चली और चंद सेेकेंड में उनके आशयिाने मिट्टी मे मिल गए। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Recommended News

static