समस्या और गुहार: गंदगी को देखकर रिश्ते भी होने बंद हो गए, 31 साल हो गए अब तो बनवा दो सड़क

7/31/2020 8:06:50 PM

समालखा (वीरेंद्र): चुनाव जीतने के लिए विभिन्न राजनीतिक पार्टियां के लोग विधायक और सांसद बनने के लिए तो हमारी वोट लेने के लिए आ जाते हैं कि एक बार हमें बना दो, फिर हम करेंगे आप का विकास। लेकिन करीब 31 सालों से कॉलोनी को एक सड़क भी नहीं दे पाएं हैं जनता के नुमाइदें। वे एक बार हमारी कॉलोनी में आकर देंखे कि किस तरह से कीचड़ से सन कर लोग अपने घरों तक पहुंचते हैं। यह कहना है भरत नगर, राजस्थान कॉलोनी, हनुमान बस्ती और शिव कॉलोनी के लोगों  नवीन रोहिल्ला, अनिल पांचाल, मनोज, ओमपाल पांचाल, कुलदीप, सुरेंद्र, गुलाब, प्रेम सतीश गर्ग, अंकित, दीपक, प्रवीण, संदीप, चिंटू, राजेश और हीरा टेलर के अलावा काफी लोगों का। 

उन्होंने विधानसभा और लोकसभा के पूर्व सांसदों और वर्तमान सांसदों को कहा कि जब चुनाव का समय आता है तो हर कोई यहां हाथ जोडकऱ हमारे  वोट मांगता है और उसकी एवज में हम से वायदा करता है कि मैं आपको बिजली-पानी सड़कें व अन्य मूलभूत सभी सुविधाएं दूंगा। मैं तत्पर आपकी सेवा में रहूंगा। इस आश्वासन पर हम सभी लोग उन्हें वोट डाल देते हैं और उन्हें अपना जनप्रतिनिधि चुन लेते हैं लेकिन चुने जाने के बाद वह लोग 5 सालों तक हमारे कार्यों को करना तो दूर हमारे को शक्ल भी नहीं दिखाते। यानी हम 5 साल में उनकी शक्ल को भी भूल जाते हैं कि कौन सांसद बनाए थे और कौन विधायक बनाए थे।

सड़क कीचड़ में तब्दील हो चुकी है 
उन्होंने यह भी कहा कि वह प्रतिनिधि हमारे को और तो क्या देंगे, बस हमें समालखा शहर से हमारी कॉलोनी में जाने का बस हमें रास्ता ही दे दो, क्योंकि यह रास्ता न पथरीला है और ना ही यह चलने लायक बना हुआ रोड है और न ही यह इस कदर है कि यहां कोई पैदल भी चल सके। क्योंकि यहां करीब 1 किलोमीटर की दूरी का यह रास्ता एकमात्र ही यह रास्ता इन चारों कालोनियों में जाने का रास्ता है इसके अलावा इन चारों कालोनियों में अन्य कोई भी रास्ता यहां जाने का नहीं है चारों कॉलोनी वासियों ने यह भी बताया कि अब वह हमारे जनप्रतिनिधि यहां आकर देखें और यहां इस रास्ते से वह 10 कदम भी चल नहीं पाएंगे क्योंकि पूरी सड़क कीचड़ से भरी हुई है और यहां जो सड़क थी उस सड़क पर कहीं भी आपको रोड़ी पत्थर नहीं मिलेंगेे। यानी पूरी सड़क कीचड़ में तब्दील हो चुकी है और गहरे गहरे गड्ढे हो चुके हैं और अब बारिश के दिनों में तो यहां लोग अपने घरों को जा ही नहीं सकते।

रिश्ते आने हुए बंद
उन्होंने यह भी बताया कि जो लोग अपनी गाड़ी मोटरसाइकिल या अन्य वाहन ले रहे हैं उनको यहां जाने के लिए अपने वाहनों को समालखा में खड़े करके रेलवे स्टेशन के रास्ते रेलवे लाइन पार करके ही पैदल कॉलोनी में दूसरे रास्ते से जाना पड़ रहा है। इन चारों कॉलोनी के वासियों ने यह भी बताया कि इन कालोनियों में कहीं से भी रास्ता न होने के कारण यहां लडक़े और लड़कियों के रिश्ते लेने और करने में भी दिक्कत आ रही है क्योंकि जो भी रिश्ता लेने और देने वाला आता है वह सब कुछ देख कर रिश्ते को इसलिए नहीं करता कि यहां इस कॉलोनी में आने जाने का रास्ता नहीं है। इसके अलावा यहां पर हर रिश्तेदार भी आने जाने से कतराता है।

क्या कहते हैं पूर्व पार्षद
इस कॉलोनी के वासी और पूर्व पार्षद रमेश सैनी का कहना है कि वर्ष 1998 में पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल जब करनाल लोकसभा क्षेत्र से सांसद बने थे  तो उस समय इस सड़क को  मार्केटिंग बोर्ड के द्वारा ईटों से बनवाया गया था  लेकिन उसके कुछ दिनों  के बाद बंसीलाल सरकार  गिर गई थी और ओम प्रकाश चौटाला मुख्यमंत्री बने थे, तो उस समय  यानी वर्ष 2000 के  करीब नई अनाज मंडी में खुला दरबार लगाया गया था उस खुले दरबार में इस सड़क को बनवाने की मांग की गई थी तो चौटाला सरकार में इस सड़क को तारकोल से बनवाया गया था, लेकिन उसके बाद यानि 20 वर्ष बीत जाने के बाद भी इस सड़क को रिपेयर तक नहीं किया गया और यह सड़क अब पूरी तरह से टूटकर केवल रास्ते में तब्दील हो चुकी थी जिसमें गहरे गहरे गड्ढे हो चुके हैं और यहां पानी भरा हुआ है।

क्या कहते हैं पार्षद 
यहां के पार्षद राजेश ठाकुर से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि यहां ना पैदल आ जा सकते ना गाड़ी में आ जा सकते। हमने इस सड़क को बनवाने के लिए कई बार संबंधित विभाग को लिखित और मौखिक रूप से बोला लेकिन कोई भी अधिकारी और कर्मचारी यहां सड़क को बनवाने का काम नहीं कर रहा, अब इस सड़क की पैमाइश हो गई है और इस सड़क से संबंधित विभाग के उच्च अधिकारियों को फिर से मांग की जाएगी और इस बारे में सांसद संजय भाटिया से भी आग्रह किया जाएगा।

इस संदर्भ में जब मार्केटिंग बोर्ड के जेई राजेंद्र से फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि यह सड़क हमारी थी लेकिन करीब 8 महीने पहले नगर पालिका की ओर से इस सड़क को लेने की मांग की गई थी हमने इस सड़क को नगरपालिका को देने का काम किया है। अब इस सड़क को बनवाने का जो भी कार्य होगा वह नगरपालिका ही करेगी।


Shivam

Related News