एडवोकेट जनरल बनाए जाने पर रणधीर सिंह ने किया अनमोल रतन सिद्धू का अभिनंदन

punjabkesari.in Saturday, May 21, 2022 - 08:36 PM (IST)

चंडीगढ़(धरणी): हरियाणा और पंजाब के बार काउंसिल के चेयरमैन  रह चुके जनशक्ति आवाज मंच के राष्ट्रीय संयोजक रणधीर सिंह बदरान द्वारा पंचकूला में पंजाब के एडवोकेट जनरल अनमोल रतन सिद्धू का विशाल अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर बदरान ने बताया कि 1999-2000 में हरियाणा के एडवोकेट जनरल हवा सिंह हुड्डा को भी सम्मानित करने का विशाल कार्यक्रम आयोजित किया गया था। क्योंकि हुड्डा हरियाणा पंजाब बार के प्रेसिडेंट रह चुके हैं। बार काउंसिल के चेयरमैन पद पर भी रहे और हरियाणा के एडवोकेट जनरल भी रहे। उन्होंने हमेशा वकीलों के लिए संघर्ष किया और उनके लिए महत्वाकांक्षी कदम उठाए। इसी तरह इस उपलब्धि को हासिल करने वाले अनमोल सिंह सिद्धू हाईकोर्ट बार के पांच बार प्रधान रहे। बार काउंसिल के 1996 से सदस्य हैं और चेयरमैन भी रहे और अब एडवोकेट जनरल बने हैं। यह पूरे भारत के ऐसे दो उदाहरण हैं जो तीनों महत्वपूर्ण पदों पर पहुंचे हैं। इन्होंने वकीलों की बेहतरी के लिए काम किया है। इसलिए इन्हें सम्मानित करने की इच्छा हुई। बदरान ने पंजाब सरकार का भी धन्यवाद करते हुए कहा कि ऐसी शख्सियत को एडवोकेट जनरल बनाया, यह एक अच्छी सोच है। 

बेरोजगारी की समाप्ति के लिए नीति परिवर्तन की आवश्यकता- बदरान 

बदरान ने कहा कि जनशक्ति आवाज मंच को लेकर 10 जिलों में संगठन तैयार किया जा चुका है। उनकी एनजीओ कोई राजनीतिक विचारधारा पर काम नहीं करती बल्कि जनता की समस्याओं को उजागर कर के समाधान करवाना उनका कार्य रहता है। सरकारी सेक्टर में भ्रष्टाचार, स्कूलों में परेशानी और प्रदेश में बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा है। आज बेरोजगारी के कारण प्रदेश का युवा भटक रहा है। हमारे पढ़े-लिखे युवक रोजगार की तलाश में विदेश जाने को मजबूर हो रहे हैं। यह एक विचारणीय विषय है। इसलिए हरियाणा सरकार को रोजगार के अवसर पैदा करने की आवश्यकता है। हरियाणा में उद्योग धंधे लगाकर हरियाणा के युवाओं को रोजगार दिया जाए। आज मीडिया द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा बेरोजगारी में देश में नंबर वन पर है। इसके लिए सरकार से मांग है कि नीति परिवर्तन किया जाए। आज हरियाणा का युवा सड़कों पर है। नशाखोरी की तरफ बढ़ रहा है। यही कारण है कि अपराध के ग्राफ में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है। यह समाज के लिए बहुत बड़ी समस्या है। हमारा मंच इस विषय पर संघर्षरत है और जनता की भावनाओं को हम सरकार तक पहुंचाने का काम करते हैं।

नशे की समाप्ति के लिए पंचायतें निभाए जिम्मेदारी

बदरान ने कहा कि बिना सामाजिक भागीदारी से नशे को नहीं रोका जा सकता। इसलिए ग्रामीण स्तर के लोगों को भी आगे आने की जरूरत है। हरियाणा में नशा बड़ी स्पीड से ग्राफ बढ़ रहा है। हरियाणा का युवा रोजगार ना होने के कारण डिप्रेशन में है। इसलिए पंचायतों को आगे आना चाहिए और नशे के कारोबार करने वाले लोगों को पकड़ कर पुलिस के हवाले किया जाना बहुत जरूरी है। पुलिस को पूरी तरह से एक्टिव हो कर दूसरे प्रदेशों से आने वाले नशे को रोकना चाहिए और इस समस्या का अंत आज बेहद जरूरी है।

 उम्मीद जगी है कि जल्द हरियाणा को मिलेगी अलग हाईकोर्ट-बदरान 

 हरियाणा की अलग हाई कोर्ट मामले पर बदरान ने कहा कि 2014 में बार काउंसिल के चेयरमैन बनने पर अलग हाईकोर्ट की मांग उन्होंने उठाई थी। पंजाब और हरियाणा का इकट्ठा हाईकोर्ट होने की वजह से केसों का निपटारा आसानी से नहीं होता। आज भी चार लाख से अधिक केस पेंडिंग पड़े हैं। उन्होंने कहा कि इन केसों की सुनवाई होना बेहद जरूरी है 2013 में विज्ञान भवन में एक बैठक के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री ने इस मुद्दे को उठाया था लेकिन यह संभव नहीं हो पाया। अब प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी विज्ञान भवन में मुद्दे को उठाया है। पंजाब के मुख्यमंत्री की भी इसमें सहमति मिली है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं कि जल्द हरियाणा को अलग हाई कोर्ट मिलेगी। हरियाणा के वकील इस मांग को लगातार उठा रहे हैं ताकि सभी को सुविधा मिल सके और जल्द से जल्द केसों का निपटारा हो सके।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 

 

 

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static