रोहतक जेल के अधीक्षक कोरोना पॉजिटिव, जेल मंत्री ने फिजिकल मुलाकातों पर लगाई रोक

punjabkesari.in Thursday, Jan 13, 2022 - 08:51 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी): प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना पॉजिटिव केसों के बाद अब रोहतक जेल अधीक्षक भी संक्रमित पाए गए हैं। एहतियातन प्रदेश की जेलों में फिजिकल मुलाकातें बंद करने के निर्देश जारी किए गए हैं।

इस बारे प्रदेश के बिजली एवं जेल मंत्री रणजीत चौटाला ने बताया कि पिछली बार सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जेलों बारे गाइडलाइन जारी की गई थी। लेकिन इस बार अभी तक ऐसा कोई निर्देश-ऐसा कोई आदेश नहीं आया, लेकिन अब जिस प्रकार से प्रदेश की जेलों में पॉजिटिव मरीज मिलने शुरू हुए हैं उसे देखते हुए काफी सतर्कता बढ़ाई गई है। जेलों में कैदी अब भीड़ में फिजिकली मुलाकात अपने सगे संबंधियों के साथ नहीं कर पाएंगे। अब एक तरफ सगे संबंधी तथा एक तरफ़ कैदी जरूर होगा लेकिन बीच में शीशा संक्रमण को फैलने से रोकेगा। 

चौटाला ने बताया कि अब तक प्रदेश में करीब एक दर्जन कोरोना के मरीज जेलों में पाए गए हैं। केवल फरीदाबाद जेल में ही करीब आधा दर्जन तथा बाकी जिलों में एक आध-एक आध कैदी पाया गया है। चौटाला ने बताया कि रोहतक जेल अधीक्षक भी संक्रमण से पीड़ित पाए गए हैं। जिसके बाद जेलों में चौकसी बढ़ाई गई है।

रणजीत चौटाला ने बताया कि अब तक जितने भी संक्रमित लोग पाए गए हैं वह या तो हवालाती हैं या वह कैदी जो पैरोल पर से वापस लौटे हैं उनमें संक्रमण पाया गया है। सभी ऐसे कैदियों की टेस्टिंग के बाद उन्हें क्वॉन्टाइन किया गया है। लेकिन पुराने कैदियों में कोई भी केस रिपोर्ट नहीं हुआ। चौटाला ने बताया कि इन बातों को देखते हुए डीजीपी जेल और सुपरिटेंडेंट पूरी तरह से मॉनिटरिंग कर रहे हैं। पिछली बार पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के जज राजेंद्र सिंह के नेतृत्व में 4 सदस्य कमेटी का गठन किया गया था। जिसमें होम सेक्रेट्री, डीजीपी जेल और रोहतक सुपरिटेंडेंट जेल शामिल थे और इस कमेटी द्वारा ही तय किया जाता था कि किसे पैरोल पर भेजा जाना है।

चौटाला ने बताया कि हम ऐसे गंभीर समय में अपने निवास और कार्यालय में पूरी तरह से एहतियात बरत रहे हैं। पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की जा रही है। प्रदेश के विद्युत विभाग के जिला लेवल के उच्च अधिकारी एससी या चीफ इंजीनियर पूरी तरह से मॉनिटरिंग करके आवश्यक दिशा निर्देश अधिकारियों और कर्मचारियों को दे रहे हैं। लेकिन राजनीतिक लिहाज से कुछ मजबूरियों के तहत हमें लोगों से अवश्य मिलना पड़ता है। लेकिन पूरी गाइडलाइन की पालना करते हुए काम किया जा रहा है।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static