किसान ने 2 में से डेढ़ एकड़ की फसल को किया नष्ट, कहा- सिर्फ खाने के लिए आधा एकड़ रखी गेहूं

2/25/2021 12:03:52 PM

कैथल(जोगिंद्र): तीन कृषि कानूनों के विरोध में कैथल जिले के गांव कैलरम निवासी किसान वीरेंद्र कुंडू ने अपनी हरी-भरी गेहूं की डेढ़ एकड़ फसल पर ट्रैक्टर चला दिया। वीरेंद्र के पास 2 एकड़ जमीन है जिस पर गेहूं की फसल बिजी हुई थी अब परिवार के खाने के लिए आधा एकड़ फसल ही बचा कर रखी है । तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन का वीरेंद्र व उसका परिवार समर्थन करता है। तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर वीरेंद्र अपने भाई के साथ दिल्ली बॉर्डर पर भी पहुंचे थे जहां 2 महीने तक धरने में डटे रहे और अब दोबारा गर्मियों के सामान के साथ जल्द ही रवाना होंगे। किसान नेता राकेश टिकैत ने कुछ दिन पहले बयान दिया था कि सरकार ने मांगे नहीं मानी तो किसान विरोध स्वरूप गेहूं की फसल को आग के हवाले कर देंगे तो वीरेंद्र कुंडू ने इसी बयान का अनुसरण करते हुए बालियां निकाल चुकी गेहूं की फसल को ट्रैक्टर से जोत दिया।

वहीं ग्रामीणों का ये भी कहना है कि हम अब दूध भी 100 रुपये लीटर ही करेंगे। सरकार तेल के दाम लगातार बढ़ा रही है तो हम भी अपने द्वारा पैदा की गई चीजों के रेट बढ़ाएंगे। 2013-14 में दूध व डीजल के दाम लगभग एक समान थे लेकिन दूध के दाम तो ज्यों की त्यों है और तेल के दाम दो गुने कर दिए सरकार ने। तो अब किसानों ने भी फैसला ले लिया है कि दूध भी तेल के दाम के समान ही बेचेंगे। अगर गांव में किसी को दूध की जरूरत होगी तो आम रेट45-50 रुपये लेकिन   शहरी व दुध की डेरी वाले को 100 रुपये लीटर ही देंगे ताकि उन्हें भी तेल की तरह दूध के दाम पता लगे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 


Content Writer

Isha

Related News