डवाना गांव की महिलाएं क्यों बोलीं सरकार तेरा शुक्रिया...

2/25/2021 3:58:39 PM

रेवाड़ी (महेंद्र भारती): हैरत की बात है कि दो गांवों डवाना व काठूवास की एक पंचायत होने के बावजूद जहां एक गांव डवाना बावल विधानसभा क्षेत्र में आता था, वहीं काठूवास रेवाड़ी हल्के में पड़ता था। लेकिन अब इन दोनों गांवों की पंचायत अलग-अलग बना दिए जाने के बाद गांव डवाना में जश्न का माहौल है। बुधवार को महिलाओं ने मंगलगीत गाए, नृत्य किया और लड्डू बांटे। ग्रामीणों का कहना है कि सरपंच की भेदभावपूर्ण नीति से उन्हें अब छुटकारा मिल गया है।

PunjabKesari, haryana

पंचायती राज संस्थाओं का कार्यकाल पूरा होने के बाद जहां विकास कार्यों को लेकर प्रशासक नियुक्त कर दिए गए हैं, वहीं नई ग्राम पंचायतों का गठन भी कर दिया है। इसी के तहत जिला रेवाड़ी को डवाना के अतिरिक्त 6 अन्य नई ग्राम पंचायतों मिली हैं। चुनाव होने से पूर्व बनी ग्राम पंचायतों को लेकर ग्रामीणों में बेहद उत्साह है और उन्हें अधिक विकास की उम्मीद जगी है।

गौरतलब है कि रेवाड़ी की तीन विधानसभाओं में अभी तक 358 ग्राम पंचायतें, 133 पंचायत समिति सदस्यों व 18 जिला पार्षदों को जिला के विकास का दायित्व सौंपा गया है। 23 फरवरी को इन सभी सरपंचों, पंचायत समिति सदस्यों व जिला पार्षदों का कार्यकाल पूरा हो चुका है, लेकिन इनके आगामी चुनाव को लेकर सरकार ने अभी कोई तारीख घोषित नहीं की है। जिसके लिए विकास कार्यों के लिए प्रशासक नियुक्त किए गए हैं। पंचायतों के स्तर पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी (डीडीपीओ), पंचायत समिति के लिए एसडीएम व जिला परिषद के लिए सीईओ जिला परिषद को प्रशासक नियुक्त किया गया है।

PunjabKesari, haryana

इन गांवों को मिली नई पंचायत की सौगात
सरपंचों का कार्यकाल पूरा होने के बाद ही सरकार ने हरियाणा में नई पंचायतों की स्थापना कर दी है। जिसमें रेवाड़ी जिला को भी 7 नई ग्राम पंचायतों की सौगात मिली है। नई ग्राम पंचायतों में धारूहेड़ा के गांव काठूवास की ग्राम पंचायत के अधीन रहे गांव डवाना, खोल की ग्राम पंचायत मंदौला के अधीन रहे गांव श्रीनगर, ग्राम पंचायत अहरोद के अधीन रहे गांव ढाणी राधा, रेवाड़ी के गांव गोकलपुर की ग्राम पंचायत के अधीन रहे गांव कुंभावास, डहीना की ग्राम पंचायत ऊंचा के अधीन रहे गांव ढाणी जरावत, धारूहेड़ा की ग्राम पंचायत शादीपुर भूरियावास के अधीन रहे गांव भूरियावास तथा जाटूसाना की ग्राम पंचायत चौकी नंबर-1 के अधीन रहे गांव मालियाकी को नई पंचायत घोषित किया गया है। इन सभी गांवों में नई पंचायत के गठन से ग्रामीणों में भारी खुशी है।

काठूवास ग्राम पंचायत से अलग हुए गांव डवाना में सरपंच की भेदभावपूर्ण नीतियों से भारी रोष था। जैसे ही यह खबर आई कि डवाना को काठूवास पंचायत से अलग कर दिया गया है तो वहां घरों से निकलकर महिला व पुरुष लड्डू बांटते दिखाई दिए। गांव के हरपाल सिंह, सत्यवीर सिंह, रोशन सिंह चौहान, संजय शर्मा, राजकरण, राजबाला चौहान, ममता, ओमवती, बसंती देवी ने कहा कि दो गांवों की पंचायत होने के बावजूद सरपंच सदैव काठूवास का ही बनता था और सरपंच उनके गांव डवाना में विकास की ओर कतई ध्यान नहीं देता था। 

PunjabKesari, haryana

उन्हें 5-6 किलोमीटर पैदल चलकर वोट डालने तथा छोटे-छोटे कार्यों के लिए काठूवास जाना पड़ता था। जिसके कारण उनके गांव का मतदान बहुत कम रहता था और बुजुर्ग लोग वोट डालने नहीं जा पाते थे। उन्होंने कहा कि दशकों पुरानी उनकी मांग आज पूरी हुई है। उन्होंने कहा कि गांव का सरपंच निर्विरोध चुनकर एक अच्छा संदेश भी देंगे।

गांवों में अधिक विकास की जगी उम्मीद
नई ग्राम पंचायतों के गठन के बाद ग्रामीणों को गांवों के अधिक विकास की उम्मीद जगी है। अन्य ग्राम पंचायतों के अधीन होने के कारण ग्रांट बंट जाती थी और विकास कम होता था। लेकिन अब नई पंचायत होने पर उन्हें भी बराबर की ग्रांट दी जाएगी। जिससे विकास में तेजी आएगी।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


Content Writer

vinod kumar

Related News