खुले में फेंके जा रहे मृत पशु व मुर्गी के पंख, बढ़ा बीमारियों का खतरा

3/21/2020 11:52:08 AM

फिरोजपुरझिरका (ब्यूरो) : कोरोना वायरस को लेकर जहां देशभर में कोहराम मचा हुआ है तो वहीं नगर पालिका प्रशासन इसको लेकर कितनी संजीदगी बरत रहा है इसका अंदाजा शहर में पसरी गंदगी को लेकर लगाया जा सकता है। दरअसल शहर के कई स्थानों पर इस समय कुछ लोगों द्वारा खुले में मृत पशुओं तथा मुर्गी के पंख व मलबे को डाला जा रहा है। जिससे यहां न केवल पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है बल्कि इससे बीमारियों को भी न्योता दिया जा रहा है।

पालिका प्रशासन की इस संदर्भ में लचर कार्रवाई के चलते मालूम पड़ता है कि प्रशासन कोरोना जैसी महामारी को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रहा है। हालांकि पालिका के अधिकारी दावा कर रहे हैं कि कोरोना को लेकर वो पूरी तरह अलर्ट हैं। लेकिन शहर में पसरी गंदगी को देखकर इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रशासन इसको लेकर कितनी गंभीरता और सतर्कता बरता रहा है।

आपको बता दें कि महामारी का रूप ले चुके कोरोना संक्रमण को लेकर केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा जिला प्रशासन को एडवाइजरी जारी कर सतर्क रहने को कहा है। लेकिन प्रशासन की तैयारियों को देखकर लगता है कि वे इस बीमारी को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं। शहर के हकीम इलियास, गौरव चौहान, विष्णु मित्तल, राजेश कुमार आदि ने बताया कि शहर की नई सब्जी मंडी के पीछे खाली पड़ी जमीन पर मुर्गी कटान के बाद उनकी गंदगी तथा पंख फेंके जा रहे हैं। इससे यहां बीमारियों का खतरा बनता जा रहा है।

लोगों ने बताया कि शहर के तिजारा मार्ग भी खुले में मृत पशुओं को डाला जा रहा है। जिससे वहां रहने वाले लोगों को सांस लेना भी दूभर हो रहा है। एडवोकेट रियाज अहमद और अरशद खान ने बताया कि तिजारा मार्ग पर खुले में फेंके जा रहे मृत पशुओं की वजह से न केवल पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया जा रहा है बल्कि बीमारियों को भी न्योता दिया जा रहा है। लोगों ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर चारों तरफ कोहराम मचा हुआ है। लेकिन पालिका प्रशासन इसको लेकर गंभीर नहीं है।


Isha

Related News