मुआवजा लेंगे 1 करोड़ फिर निकलेगा रोड, किसानों ने दूसरी बार शुरू नहीं होने दिया निर्माण कार्य

punjabkesari.in Tuesday, May 25, 2021 - 08:37 PM (IST)

डबवाली (संदीप): भारत माला परियोजना के अंतर्गत पंजाब के अमृतसर से गुजरात के जामनगर तक बनने वाले हाई-वे का निर्माण आरंभ करने पहुंची कंपनी को आज डबवाली उपमंडल के विभिन्न गांवों के किसानों ने काम करने से रोक दिया। कम मुआवजा राशि मिलने से नाराज किसान आज अलीकां गांव में बैठक करने के लिए एकत्रित हुए थे। भूमि अधिग्रहण की मुआवजा राशि से असंतुष्टï आक्रोशित किसानों ने जोरदार प्रदर्शन किया। किसानों के जुटने की भनक लगने पर शहर थाना प्रभारी सत्यवान शर्मा भी मौके पर पहुंचे। 

इसी दौरान किसानों के बीच पहुंचे डबवाली के नायब तहसीलदार को किसानों ने जमीन अधिग्रहण के मुआवजे से जुड़ा ज्ञापन सौंपा। गुस्साए किसानों की तरफ से किसान नेता राकेश फगोडिय़ा ने एन.एच.ए.आई. होश में आओ, हरियाणा सरकार होश में आओ, एन.एच.ए.आई. पर हल्ला बोल, एन.एच.ए.आई. की गुंडागर्दी नहीं चलेगी, प्रदेश की भाजपा-जेजेपी सरकार मुर्दाबाद, संवैधानिक अधिकारों का हनन नहीं सहेंगे, मनोहर लाल खट्टïर होश में आओ, दुष्यंत चौटाला पर हल्ला बोल, रणजीत चौटाला पर हल्ला बोल, बोल किसाना हल्ला बोल, पूंजीपतियों पर हल्ला बोल, किसान एकता जिंदाबाद, इंकलाब जिंदाबाद जैसे जोरदार नारे लगाए।

एन.एच. 754 में 9 गांवों के किसानों की जमीन अधिग्रहीत
किसान नेता दयाराम उलानियां ने गांव अलीकां में किसानों की बैठक के बाद कहा कि एन.एच. 754 के निर्माण के लिए डबवाली उपमंडल के 9 गांवों के सैंकड़ों किसानों की जमीनों का अधिग्रहण किया गया है। दयाराम उलानियां के मुताबिक एन.एच.ए.आई. के अधिकारी भी ये मान चुके हैं कि जमीन अधिग्रहण के बाद किसानों को जो अवार्ड दिए गए हैं उसमें गलतियां हुई है। इन गलतियों को जल्द ठीक कराने का आश्श्वासन डबवाली के मौजूदा एस.डी.एम. ने दिलवाया था। किसानों को मुआवजा देने में एन.एच.ए.आई. ने बहुत ही भेदभाव वाली नीति अपनाई है। जो कि किसानों के साथ नाइंसाफी है। एन.एच.ए.आई. अधिग्रहण की गई भूमि के मुआवजे के मामले में एक ही गांव के किसानों एक जैसी जमीन का मुआवजा राशि अलग-अलग दे रहा है। अगर बात की जाए गांव चौटाला की तो यहां 23 एकड़ जमीन का किसानों को प्रति एकड़ 86 लाख रूपए के हिसाब से मुआवजा राशि दी गई। दयाराम के मुताबिक इसके 6 महीने बाद चौटाला गांव के किसानों की अधिग्रहण की गई 150 एकड़ जमीन का प्रति एकड़ महज 40 लाख रूपए मुआवजा राशि दिया गया है। सरकार ने डबवाली क्षेत्र में किसानों के साथ जमीन अधिग्रहण की राशि में मनमाने तरीके से मुआवजा राशि जारी की है।

काम नहीं करने देंगे
दयाराम उलानिया ने कहा कि जब तक किसानों को एक समान मुआवजा नहीं दिया जाएगा तब तक एन.एच.ए.आई. को काम नहीं करने देंगे। कोरोना काल के बीच एन.एच.ए.आई. और हाई-वे निर्माण कार्य करने वाली कंपनी के लोग अपने आशियाने डबवाली में बना रहे हैं। इससे किसानों को एकत्रित होने के लिए मजबूर कर रहे हैं। हाई-वे निर्माण के लिए दूसरे राज्यों से लोगों को डबवाली में लाया जा रहा है। अगर प्रशासन ने किसानों की बात नहीं मानी तो 9 गांवों के किसान एकत्रित होंगे। इसकी समूची जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। 

बता दें कि बीती 5 मई को भी हाई-वे निर्माण कार्य को लेकर ट्रकों में सामान डबवाली के अलीकां गांव में लाया गया था। जैसे ही किसानों को भनक लगी तो किसान बड़ी संख्या में एकत्रित होकर मौके पर पहुंच गए। जहां किसानों ने विरोध करके निर्माण कार्य से जुड़े कर्मचारियों को वापिस लौटने पर मजबूर कर दिया। दयाराम उलानियां ने कहा कि किसान अपनी बेशकीमती उपजाऊ जमीन सरकार को हाई-वे निर्माण के लिए दे रहा है। ऐसे में सरकार को किसानों के साथ इंसाफ करते हुए उचित मुआवजा राशि देनी चाहिए थी। लेकिन किसानों की जमीनों को कौडिय़ों के भाव में अधिग्रहित किया गया है।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static