हुड्डा ने नौकरियों को लेकर उठाए सवाल, बोले-पारदर्शिता व मेरिट सरकार की एटेची में बंद

punjabkesari.in Tuesday, Nov 23, 2021 - 09:53 AM (IST)

रोहतक(दीपक): एचएसएससी रिश्वत मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए आरोप लगाया है कि बिना सरकार के संरक्षण के यह मामला नहीं हो सकता। आखिर सरकार किसे बचाना चाहती है इसलिए इस मामले की जांच सीबीआई या हाईकोर्ट के सिटिंग जज से करवाई जानी चाहिए और चेयरमैन को तुरंत प्रभाव से इस्तीफा दे देना चाहिए। भूपेंद्र सिंह हुड्डा रोहतक स्थित अपने आवास पर एक प्रेस वार्ता में बोल रहे थे। वहीं हुड्डा ने कहा कि 11 दिसंबर को अगला विपक्ष आपके समक्ष कार्यक्रम मेवात में होगा।

ऐसी कोई भी भर्ती नहीं जिसमें भ्रष्टाचार ना हुआ हो
हुड्डा का कहना है कि हरियाणा में ऐसी कोई भी भर्ती नहीं है जिसमें भ्रष्टाचार ना हुआ हो और मौजूदा एचएसएससी में रिश्वत मामले ने यह तय कर दिया है कि हरियाणा सरकार का पारदर्शिता और मेरिट का दावा खुद ही सरकार ने एक सूटकेस में बंद करके रख दिया है। क्योंकि बहुत सी भर्तियों के पेपर लीक हो चुके हैं। जिस तरह का भ्रष्टाचार नौकरियों में निकल कर सामने आया है उससे सरकार की मंशा पर सवाल उठता है। क्योंकि बिना सरकार के संरक्षण के इस तरह का भ्रष्टाचार नहीं हो सकता और सरकार भी इस मामले में  जांच कराने से बच रही है। जिससे यह तय है कि किसी को बचाना चाहते हैं। अगर सरकार नौकरियों के मामले में इतनी पाक साफ है तो इस मामले की सीबीआई या हाई कोर्ट केस सिटिंग जज से जांच होनी चाहिए। यही नहीं एचएसएससी के चेयरमैन को तुरंत प्रभाव से इस्तीफा भी दे देना चाहिए।

कृषि कानूनों के वापस का फैसला देर से हुआ
वहीं हुड्डा तीन कृषि कानूनों के वापस लिए जाने पर बोले भले ही फैसला देर से हुआ हो लेकिन फैसला दुरुस्त है। अगर समय रहते फैसला हो जाता तो जो नुकसान हुआ है उससे बचा जा सकता था। साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों की आय दोगनी करने का दावा करने वाली सरकार को किसानों की लागत कम करनी पड़ेगी। तब ही किसानों को कुछ फायदा मिल सकता है। किसानों के जो मुद्दे बचे हुए हैं उस पर भी सरकार को बात करनी चाहिए।

11 दिसंबर को मेवात में होगा दूसरा कार्यक्रम
कांग्रेस पार्टी के विपक्ष आपके समक्ष कार्यक्रम पर बोलते हुए भूपेंद्र सिंह हुड्डा बोले कि उन्होंने जींद में जिस तरह से लोगों की राय जानी उससे यह तय हो गया है कि प्रदेश की सरकार बिल्कुल विफल है, ना तो कहीं पर कोई विकास है और ना ही सरकार की नीतियों को सही तरीके से लागू किया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी का विपक्ष आपके समक्ष का दूसरा कार्यक्रम 11 दिसंबर को मेवात में होगा। साथ ही हुड्डा बोले कि कांग्रेस पार्टी में वह कंफर्टेबल है। लोगों ने उनकी जिम्मेवारी विपक्ष के तौर पर लगाई है और कांग्रेस पार्टी जो भी जिम्मेदारी लगाएगी वह उसको बखूबी निभाएंगे। वहीं उन्होंने अपनी ही पार्टी को नसीहत दे डाली और कहा कि ऐलनाबाद उप चुनाव का परिणाम कांग्रेस पार्टी के लिए वार्निंग है अब पार्टी को खड़ा होना पड़ेगा।


(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static