गौ संचालक और किसान एकत्रित होकर पहुंचे लघु सचिवालय, 144 को हटाने की उठाई मांग

punjabkesari.in Tuesday, Apr 26, 2022 - 09:31 AM (IST)

 

सिरसा(सतनाम): पशु के लिए सूखा चारा ( तूड़ी) की आ रही समस्या को लेकर एक और जहां जिला प्रशासन ने दूसरे राज्य में तूड़ी भेजने पर रोक लगाकर धारा 144 लागू कर दी, तो वहीं सिरसा सीमा के साथ लगते राजस्थान के गौ संचालक और किसान एकत्रित होकर सिरसा के लघु सचिवालय पहुंचे हैं । जहां उन्होंने बॉर्डर को खोलने और धारा 144 को हटाने की मांग उठाई है।

राजस्थान से सिरसा लघु सचिवालय पहुंचे गौशाला संचालकों व किसानों सहित हरियाणा के किसान नेताओं ने एक सुर में आवाज उठाई कि जल्द से जल्द बॉर्डर को खोलें जाए, नहीं तो बड़ा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे। मीडिया से बातचीत करते हुए राजस्थान गौशाला सिमिति के जिला अध्यक्ष बजरंग सिंह शेखावत ने बताया कि तूड़ी की आ रही कमी और धारा 144 के विरोध में वो आज यहां सिरसा के लघु सचिवालय पहुंचे हैं । क्योंकि प्रशासन की ओर से धारा 144 लगाकर राजस्थान में तूड़ी भेजने पर रोक लगा दी है।

उन्होंने बताया कि राजस्थान की गौशाला में हरियाणा और पंजाब के किसान तूड़ी भेजते हैं। जिससे वहां की गौशाला में सैकड़ों गोशालो को सूखा चारा मिल पाता है। उन्होंने प्रशासन से मांग करते हुए एक ज्ञापन भी सौंपा और कहा कि जल्द से जल्द धारा 144 को हटाए जाए। उन्होंने कहा कि तूड़ी की कोई कमी नहीं है। लेकिन कुछ लालच में लोग तूड़ी को एकत्रित कर रहे हैं ।उन्होंने बताया कि गौ माता सबकी सांझी हैं उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही बॉर्डर को नहीं खोले गए तो वह बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगे और राजस्थान की गौशालाओ से हरियाणा के बॉर्डर पर गौ को छोड़ देंगे।

किसान संगठन के नेता रणधीर जोधकां ने कहा कि प्रशासन द्वारा यह निर्णय लिया गया बिल्कुल गलत निर्णय है। वह भी समर्थन करते हैं कि बॉर्डर को खोल देना चाहिए। जिससे गौशाला को पर्याप्त मात्रा में सुखा पशु चारा मिल सके। उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही इस समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वह भी बड़ा आंदोलन करने से पीछे नहीं हटेंगे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static