अब डेंगू बना सिरदर्द: अब तक 32 मामले डेंगू पॉजिटिव, 4 मलेरिया के कन्फर्म

punjabkesari.in Monday, Oct 12, 2020 - 11:22 AM (IST)

गुडग़ांव (ब्यूरो) : कोरोना काल में डेंगू की दस्तक से स्वास्थ्य विभाग का सिरदर्द बढ़ गया है। महज एक पखवाड़े में डेंगू के 32 व मलेरिया के 4 मामले पुष्ट किए गए हैं। बताया जा रहा है कि मामलों की रोकथाम के लिए निगम द्वारा गठित 35 टीमें बेसअर साबित हो रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि रफ्तार अगर इसी तरह से जारी रही तो कोरोना के बाद डेंगू की स्थिति भी भयावह हो सकती है। स्थानीय लोगों की मानें तो अधिकारी व कर्मचारी महज कागजों में उपस्थिति देकर अपना कोटा पूरा कर रहे। यही वजह है कि दिनों दिन शहर में कोरोना के साथ डेंगू व मलेरिया के भी मामलों में इजाफा जारी है।

जबकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से जागरूकता के लिए लाखों घरों में मोबाइल मैसेज भेजकर लोगों को जागरूक करने का प्लान तैयार किया गया है। लेकिन बताया जा रहा है कि विभाग अभी तक सिर्फ इसकी रूप रेखा ही बना सका है जबकि जमीनी स्तर पर इसे अंजाम नही दिया जा सका है। बताया गया है कि बीते कुछ महीनों से सभी अधिकारी और कर्मचारी कोविड-19 की ड्यूटी में व्यस्त है। लिहाजा इस बार नगर निगम को इसके रोकथाम व जागरूकता जिम्मेदारी दी गई है।

जिला मलेरिया अधिकारी डाक्टर सुधा गर्ग ने बताया अभी मच्छर से फैलने वाली बीमारियों का पीक सीजऩ है। जिसे लेकर लोगों में जागरुकता फैलाना ज़रूरी है। मेसेज के ज़रिए एक साथ हज़ारों लोगों को संदेश भेजा जा सकता है। इसके अलावा सभी पीएचसी और स्वास्थ केंद्रो पर तो जागरुकता कार्यक्रम चल ही रहे है। अभियान में जिले के कई विभागों को शामिल किया गया है। नगर निगम के मैडिकल अधिकारी डा. आशीष सिंगला ने बताया फागिंग व लार्वा चेकिंग के लिए 35 टीमें लगाई गई। कर्मचारियों द्वारा लोगों को अवेयर किया जा रहा है। इसके अलावा लार्वा पाए जाने पर सैकड़ों लोगों को नोटिस भी जारी किए जा चुके है। वही दूसरी ओर स्वस्थ्य विभाग के आला अधिकारियों की मानें तो हालात अगर इसी तरह के रहे तो इसमें दो राय नही कि कोरोना काल में डेंगू की दस्तक स्थिति को और बिगाड़ सकता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Manisha rana

Related News

Recommended News

static