जोगीराम को कृषि कानूनों की जानकारी होती तो पद स्वीकार करने से मना नहीं करते: धनखड़

10/18/2020 9:29:11 PM

जींद (जसमेर मलिक): भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने बरवाला के जजपा विधायक जोगीराम सिहाग के कृषि कानूनों की जानकारी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि सिहाग को कृषि कानूनों की पूरी जानकारी नहीं है। उन्हें पूरी जानकारी होती तो वह चेयरमैन का पद स्वीकार करने से मना नहीं करते। 

रविवार को जींद में एक किसान संगठन के कार्यक्रम में भाग लेने के बाद ओमप्रकाश धनखड़ ने मीडिया से बात करते हुए एक सवाल के जवाब में कहा कि कृषि कानूनों के विरोध में चेयरमैन का पद अस्वीकार करने वाले जजपा विधायक जोगीराम सिहाग को कृषि कानूनों की शायद पूरी जानकारी नहीं है। सच्चाई यह है कि कृषि कानून किसानों के हित में बनाए गए हैं। यह कानून लागू होने के बाद भी मंडी और फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य जैसी व्यवस्थाएं पहले की तरह जारी रहेंगी। 

धनखड़ ने कहा कि कृषि कानूनों से किसानों को अपनी फसलों का भाव खुद निर्धारित करने और फसलों की डायरैक्ट मार्कीटिंग करने का अधिकार मिला है। इससे किसान को उसकी फसलों के ज्यादा और लाभकारी मूल्य मिलेंगे। धनखड़ ने कहा कि नई व्यवस्था से आम उपभोक्ता को भी फायदा होगा। उसे मंडियों में फसलों की सरकारी खरीद बंद होने के बाद कम भाव पर सरसों, बाजरा, कपास आदि मिलेंगे। 

धनखड़ ने बरोदा उप-चुनाव से जुड़े सवाल पर कहा कि भाजपा विकास के दम पर चुनाव जीतेगी। बरोदा का विकास केवल भाजपा सरकार कर सकती है। विरोधी दलों के लोग बरोदा की जनता की सेवा केवल वाणी से कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि आज पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा यह कह रहे हैं कि बरोदा के नतीजे से चंडीगढ़ की कुर्सी हिल जाएगी जबकि ऐसा कुछ होने वाला नहीं है। बरोदा सीट पहले भी भूपेंद्र हुड्डा और कांगे्रस के पास थी और चंडीगढ़ में भाजपा की सरकार 6 साल से चल रही है। उन्होंने कहा कि भूपेंद्र हुड्डा तो बरोदा में अपनी पसंद के नेता को कांग्रेस टिकट भी नहीं दिलवा पाए।   


Shivam

Related News