हरियाणा में पहले महिला किसान संगठन का गठन, गुरविंदर कंडेला को बनाया गया प्रधान

9/15/2021 11:07:31 PM

चंडीगढ़ (धरणी): हरियाणा में पहला महिला किसान संगठन का गठन कर लिया गया है, जिसका अध्यक्ष गुरमिंदर कंडेला को बनाया गया है। कंडेला के अंदर किसी वक्त हुए आंदोलन में जब पुलिस आंदोलनकारी किसान नेताओं को गिरफ्तार करने पहुंची थी तो उस वक्त गुरविंदर कंडेला जो तब बाल अवस्था में थी, पुलिस की गाडिय़ों के टायरों की हवा निकालने के मामले में चर्चा में आई थी।

गुरविंदर कंडेला ने भारतीय महिला किसान संगठन के नाम से संगठन खड़ा क्यों किया? इस विषय पर उनका कहना है कि 10 माह से किसान आंदोलन चल रहा है। मगर किसान मोर्चा के संयुक्त प्रतिनिधि मंडल के 40 सदस्यों में एक भी महिला को शामिल नहीं किया जाता। गुरविंदर कंडेला का कहना है कि कहीं प्रदर्शन के दौरान पुलिस के लाठीचार्ज व आंसू गैस छोड़े जाने की संभावना हो तो आंदोलन में महिलाओं को आगे रखा जाता है। गुरविंदर का कहना है कि महिलाएं पिछले 10 माह से तीन कृषि कानूनों के मुद्दे पर चल रहे आंदोलन की बागडोर पूर्णतया संभाल रही हैं। इसके अलावा वह अपने घर परिवार समाज रिश्तेदारों का निर्वाह भी बखूबी कर रही हैं, फिर यह भेदभाव महिलाओं से क्यों?

गुरविंदर कंडेला का कहना है कि सरकार से अगर कोई भी वार्ता करने के लिए 40 सदस्य प्रतिनिधिमडल जब-जब गया कभी भी एक भी महिला को उसमें शामिल नहीं किया गया। महिलाओं के साथ यूज एंड थ्रो का फार्मूला इस्तेमाल किया जा रहा है। किसान आंदोलन में महिलाएं पुरुषों के कंधे के साथ कंधा मिलाकर चल रही हैं, मगर उन्हें किसी भी वार्ता के वक्त दरकिनार कर दिया जाता है। गुरविंदर का कहना है कि पुरुष गांव में बैठकर जहां ताश खेलकर अपना समय व्यतीत करते हैं, वहीं महिलाएं सारी जिम्मेदारियां संभाल रही हैं।

कृषि कानूनों पर टिप्पणी करते हुए गुरविंदर का कहना है कि खरीद खुली मंडी में सरकार ने शुरू कर सराहनीय काम किया है। आढ़ती की चंगुल में अब किसान नहीं फंसेगा। किसान के खाते में सीधे पैसे आएंगे। उन्होंने खुले मन से सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि आढ़तियों के चंगुल से बचाने के लिए प्रकार बधाई की पात्र है। उन्होंने कहा कि एमएसपी पर सरकार गारंटी दे ताकि किसानों को सुनिश्चित हो सके।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Recommended News

static