नए साल में वैक्सीन की अच्छी खबर आने की संभावना : राजीव अरोड़ा

10/21/2020 2:23:06 PM

चंडीगढ़(धरणी): त्योहारी सीजन को लेकर हरियाणा के कई विभाग पूरी तरह से अलर्ट पर हैं। एक ओर जंहा मिलावटखोर बाज नही आ रहे और आए दिनं विभागों द्वारा छापामारी अभियान जारी है वहीं प्रदेश के सर्वोच्च पदों पर बैठे अधिकारी पूरी नजर बनाए हुए हैं। आज हरियाणा सरकार के गृह एवम् स्वास्थय विभाग के एडिशनल चीफ सेकेटरी राजीव अरोडा से पंजाब केसरी ने विशेष मुलाकात की और कोरोना सम्बन्धि प्रदेश की स्थिति और आने वाले दिनों में किस प्रकार की इनके विभाग की तैयारियां है उस पर चर्चा हुई। राजीव अरोड़ा ने कहा कि अगर वैक्सीन अवेलेबल होती है तो उनको किस प्रकार से डिसटीब्यूट किया जाए। ऐसा माना जा रहा है कि नए साल में अच्छी खबर आएगी और उसके बाद भारत सरकार का स्वास्थ्य विभाग और आई.सी.एम.आर. के तत्वाधान में आगे बढ़ाया जाएगा।जिसके कुछ अंश आपके सामने प्रस्तुत हैंः-

प्रशनः- कोरोना को लेकर प्रदेश में अब क्या स्थिति है और रिकवरी रेट क्या है
उत्तरः-
हमारे प्रदेश में काफी सुधार हुआ है। रिकवरी रेट 93 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.09 है। आने वाले दिनों में काफी और सुधार होगा। खुशी की बात है 135 दिन के बाद कल कोई मृत्यु कोरोना की वजह से दर्ज नहीं हुई है। फिर भी हमें अभी काफी अलर्ट रहने की जरूरत है। त्योहारी सीजन के दौरान हमें और ध्यान रखना है। केन्द्र और प्रदेश सरकार कोविड-19 प्रति जागरुकता को लेकर पब्लिकली कैंपेन चला कर रही है। हमें फिजिकल डिस्टेंस के साथ, हैंड सैनिटाइजर और मास्क का ध्यान रखना है और पब्लिक गैदरिंग से बचना है।

प्रशनः- ओ.पी.डी की स्थिति क्या है और कई सर्जियंा जो पेंडिंग थी उनके लिए हेल्थ डिपार्टमेंट ने क्या व्यवस्था की है
उत्तरः-
मैं हरियाणा स्वास्थय विभाग के सभी डाक्टर्स और पैरा मैडिकल स्टाफ का धन्यवाद करना चाहता हूं कि जब कोरोना पीक पर था। उस समय भी 70 से 80 प्रतिशत फैसिलिटी चालू थी और केवल उन्हीं अस्पतालों की ओ.पी.डी. बन्द रही जिसमें कोरोना के ज्यादा मरीज आ रहे थे। अब पूरे प्रदेश में ओ.पी.डी. पूरी तरह से चालू कर दी गई है। एमरजैंसी सर्जरी तो पहले भी होती रही हैं। लेकिन अब जिन सर्जरियों को पोस्टपोन किया गया था उन्हें भी किया जा रहा है।

प्रशनः- अनलॉक पीरियड 5 का समय चल रहा है। स्कूल, कॉलेज, सिनेमाघर खोले जा रहे हैं। हेल्थ डिपार्टमेंट के लिए क्या चुनौतियां हैं
उत्तरः- आज हम काफी अच्छी स्थिति में हैं। इसको हमने किस प्रकार से मेंटेन करके रखना है। यह जरूरी है। हमारी 26 हजार के करीब रोज टेस्टिंग हो रही हैं इसे हमने कम नहीं किया है। जहां पर भी इस प्रकार के वायरस की बात आती है उसको आईडेंटिफाई किया जाए। उसे आइसोलेट किया जाए। आज भी कुछ पेशेंट ऐसे रिएक्ट करते हैं कि जैसे उन्हें कुछ हुआ ही नहीं। लेकिन यह इन्फेक्शन अभी मौजूद है। हमें अपने लोगों को जागरूक करना है और विभाग भी अपने स्तर पर पब्लिक कैंपेन कर रहे हैं।

प्रशनः- वैक्सीन के लिए पी.जी.आई. रोहतक में भी ट्रायल शुरू हुए थे। क्या स्टेज है उनकी
उत्तरः- यह सारी चीजें आई.सी.एम.आर. गवर्नमेंट बॉडी ऑफ इंडिया देखती है। जहां तक रोहतक की बात है वह फेस ट्रायल के लिए कुछ इंस्टिट्यूशन को टेकप किया गया है। आमतौर पर गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने मीटिंग लेनी शुरू कर दी है। जिसमें वह यह देख रहे हैं कि हर स्टेट में इंन्फरास्क्चर किस प्रकार का है। अगर वैक्सीन अवेलेबल होती है तो उनको किस प्रकार से डिसटीब्यूट किया जाए। ऐसा माना जा रहा है कि नए साल में अच्छी खबर आएगी और उसके बाद भारत सरकार का स्वास्थ्य विभाग और आई.सी.एम.आर. के तत्वाधान में आगे बढ़ाया जाएगा।

प्रशनः- सीरो सर्वे को लेकर क्या तैयारियां हैं और कब से शुरू होने की उम्मीद है
उत्तरः- 
सीरो सर्वे का अब सेकंड राउंड है। पहला राउंड 20 अगस्त से शुरू हुआ था और दूसरा 20 अक्टूबर से शुरू करेंगे। स्वास्थ्य मंत्री ने उसे 15 तारीख को ही फोरमली लांच कर दिया था। 2 दिन से सीरो सर्वे में  सैंपलिंग की जाएगी। इस बार हमारे टेक्निकल पार्टनर पी.जी.आई.एम.एस. रोहतक है और स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक हाउस ऐप भी तैयार किया गया है। जिसमें सीरो सर्वे के रिजल्ट और डाटा फीड करने में आसानी होगी।

प्रशनः- डायल 112 को लेकर क्या स्टेज है और कब तक इंप्लीमेंट हो जाएगा
उत्तरः-
कुछ दिन पहले गृह मंत्री जी ने पुलिस हेड क्वार्टर के साथ जो 112 का मेन एमरजैंसी रिस्पांस सेंटर है उसम जाकर इसे रिव्यू किया था। जिसमें मैं, डीजीपी हरियाणा और हरियाणा के पुलिस अधिकारी मौजूद थे। जिसें 31 दिसंबर 2020 तक शुरू करने के लिए तैयारी है। इसमें सरकार द्वारा कुछ सेक्शन इत्यादि ऐड करने हैं। उसके लिए भी बडी तेजी से कार्रवाई चल रही है।

प्रशनः- राजस्थान और पंजाब के साथ लगते जिलों को नशे की मंडी बनने से कैसे रोकेंगे
उत्तरः-
इसके लिए इंटरनल डिपार्टमेंटल कोआर्डिनेशन स्टेट लेवल पर बनी हुई है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग गृह विभाग और सोशल वेलफेयर डिपार्टमेंट से जुड़े विभाग इसके मेंबर है। पुलिस विभाग ने नारकोटेस्ट कंट्रोल ब्यूरो स्टेट भी स्टार्ट कर दिया है और पड़ोसी राज्यों से भी हमारा समन्वय है हम संपर्क में रहते हैं। जिससे सप्लाई साइट पर ही इसे कम कर दिया जाए। इसके लिए पुलिस विभाग पूरी तरह से अलर्ट है।

प्रशनः- इस त्योहारी सीजन में आपके दोनों विभाग किस प्रकार से अलर्ट हैं कि गलत खाद्य पदार्थ मार्किट में न आंए
उत्तरः-
इसके लिए कमिश्नर फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन हर साल एक अभियान चलाता है। साथ ही आपने देखा होगा सी.एम. फ्लाइंग द्वारा भी कई बड़े एक्शन लिए गए और कई मामले भी दर्ज किए गए। किसी प्रकार की मिसहैप्निंग, लॉ एंड ऑर्डर या टैरर संबंधी मामलों को लेकर पुलिस विभाग भी पूरी तरह से अलर्ट पर है।

प्रशनः- गृह मंत्रालय द्वारा शिकायत निवारण सेल स्थापित करने की बात सामने आई थी
उत्तरः-
जिस प्रकार से सी.एम. विंडो बनाई गई। उस पर काफी शिकायतें आती हैं। इसी प्रकार से गृह मंत्री जी के पास आई शिकायतों के निपटान के लिए स्टेट के पुलिस अधिकारी डी.जी.पी. के माध्यम से समय-समय पर सभी शिकायतों की जांच करके उसकी रिपोर्ट गृह मंत्री के पास पेश करते रहते हैं।
 


Isha

Related News