गुरनाम चढूनी बोले- लोकतंत्र का गला घोंट रही है सरकार, आंदोलन नहीं रुकेगा

9/17/2020 5:15:37 PM

घरौंडा (विवेक राणा): केंद्र के कृषि से जुड़े तीन अध्यादेशों के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। यूनियन इसको लेकर पीछे हटने वाला नहीं है। गुरनाम सिंह चढूनी लगातार सरकार पर हमलावर बने हुए हैं। आज घरौंडा हाईवे की सर्विस लाइन पर कुछ समय रूके गुरनाम चढूनी ने कहा कि 19 तक सभी हेड क्वार्टर में धरने चलेंगे। इसके बाद 20 को हरियाणा में रोड जाम किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि सरकार लोकतंत्र का गला घोटने की कोशिश कर रही है, इन तीन अध्यादेशों से चंद पूंजीपतियों का पोषण होगा। उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन को कमजोर करने के लिए कई तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं, सरकार के कुछ पिट्ठू संगठन समझौता होने का षडयंत्र भी रचने लगे हैं, लेकिन ये तीनों अध्यादेश किसान, व्यापारी और मजदूर विरोधी हैं, इसलिए किसानों के हित में उनका आंदोलन जारी रहेगा। 

चढूनी ने कहा कि ये सरकार सत्ता के नशें में कुछ भी करवा सकती है, किसानों की गेहूं का रेट पंद्रह सौ व धान का भाव बारह सौ और मक्के का भाव ग्यारह सौ रुपए है हम कैसे जिंदा रहेंगे, ये देश हित में नहीं है। देश के नेताओं को केवल राज चाहिए,खेती हमारे देश का रोजगार है, बिजनेस नहीं।

देश को आजाद कराने के लिए हजारों लोगों ने कुर्बानी दी थी। उन्होंने कहा कि क्या देश को अंबानी और अडानी के लिए आजाद कराया था। चढूनी ने कहा कि भारत लोकतंत्र का देश है। किसान, व्यापारी, मजदूर, आढ़तियों को तीनों अध्यादेश नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार के खिलाफ सभी मिलकर आवाज उठाएंगे। 


vinod kumar

Related News