हरियाणा: भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने चैट देने से किया मना, सीएम ने शायराना अंदाज में कसा तंज

punjabkesari.in Thursday, Dec 23, 2021 - 09:23 AM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी) : हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बुधवार को हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र में नेता प्रतिपक्ष श्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को घेरा। मुख्यमंत्री ने सदन में भूपेंद्र हुड्डा द्वारा पढ़ी गई उस वाट्सएप चैट की जांच करवाने के लिए कॉपी की डिमांड की। इस पर नेता प्रतिपक्ष कोई जवाब नहीं दे पाए। मुख्यमंत्री ने अध्यक्ष के माध्यम से कहा कि इस चैट को सदन में पढ़ा गया है, इसकी जांच होनी चाहिए।

इसके बाद मुख्यमंत्री ने शायराना अंदाज में भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर तंज भी कसा। उन्होंने कहा कि यदि कांच पर पारा चढ़ा दिया जाए तो दर्पण बन जाता है, अगर वही दर्पण दिखा दिया जाए तो पारा चढ़ जाता है। मुख्यमंत्री हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र में विपक्ष के सवालों का जवाब दे रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन करना सरकार का मुख्य लक्ष्य है। आम आदमी को आने वाली परेशानी को कैसे दूर किया जाए, इसको लेकर सरकार लगातार काम कर रही है। हमारे बहुत से कानून ऐसे हैं जो एक दूसरे को ओवरलैप करते हैं इसलिए हरियाणा लॉ कमीशन बनाया है। यह लॉ कमिशन इन कानूनों पर अध्ययन करेगा और आउटडेटेड कानूनों को डिलीट या मॉडिफाई किया जाएगा।

किसानों के केस होंगे वापिस
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि अभी तक किसान आंदोलन के दौरान पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक 276 केस दर्ज हुए हैं। इनमें से 4 केस अति गंभीर प्रकृति के हैं। 272 केस में से 178 केस में चार्जशीट तैयार की गई है। 158 केस अभी तक अनट्रेस हैं। 8 की कैंसिलेशन रिपोर्ट तैयार कर ली गई है और चार केस की कैंसिलेशन रिपोर्ट फाइल कर दी गई है। 29 केस के रद्द करने की प्रक्रिया जारी है। किसानों को मुआवजा देने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी किसानों से बातचीत चल रही है। सीआईडी की रिपोर्ट के मुताबिक 46 किसानों का पोस्टमॉर्टम हुआ है। बातचीत में किसानों द्वारा 73 मृतक किसानों को हरियाणा का बताया है। अभी इस मामले में जांच जारी है। इसके बाद ही बातचीत करके मुआवजे के संबंध में फैसला लिया जाएगा।

विश्वविद्यालयों में नियुक्ति को लेकर कमेटी का गठन
 मुख्यमंत्री ने हरियाणा के विश्वविद्यालयों में अलग-अलग पदों पर नियुक्तियों के संबंध में फैसला लेने को लेकर एक 5 सदस्यीय कमेटी का गठन करने के लिए कहा है। इसमें राज्यपाल (चांसलर) का प्रतिनिधि, उच्चतर शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव, तीन यूनिवर्सिटी के वीसी शामिल होंगे। इसके बाद ही इस पर फैसला लिया जाएगा। इसमें यूजीसी के निर्देशों की अनुपालना की जाएगी। विश्वविद्यालयों में पारदर्शी और योग्यता के आधार पर ही योग्यता के आधार पर ही नियुक्ति होंगी। विश्वविद्यालयों की स्वायतता बरकरार रहेगी।

नंबरदारों को नहीं हटाया जाएगा
मुख्यमंत्री ने कहा कि नंबरदारों को नहीं हटाया जाएगा। सरकार द्वारा उनके मासिक वेतन को 1500 से बढ़ाकर 3 हजार कर दिया गया है। इसके साथ-साथ 7 हजार रुपये मोबाइल के लिए दिए गए हैं। उन्हें आयुष्मान भारत का लाभ देने की फाइल भी क्लियर हो गई है, जल्द केंद्र सरकार से मंजूरी मिल जाएगी। सरकार ने आगे नए नंबरदार की नियुक्त पर फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया है। इस संदर्भ में बाद में फैसला लिया जाएगा।

कोरोना के दौरान 600 करोड़ रुपये से अधिक का पहुंचाया लाभ
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि कोरोना के दौरान सरकार ने कोई कमी नहीं छोड़ी । सरकार ने अलग अलग वर्गों के लाभपात्रों को 600 करोड़ रुपये से अधिक का सीधे तौर पर लाभ पहुंचाया है । उन्होंने कहा कि कोविड के कारण जिन विधायकों के हलकों में विकास कार्यों के लिए 5-5 करोड़ रुपये की राशि नही दी गई, वह 31 मार्च तक जारी कर दी जाएगी।  

माइक्रो इरिगेशन को दिया जाएगा बढ़ावा
मुख्यमंत्री ने कहा कि पानी की कठिनाई को देखते हुए और आने वाली पीढ़ियों के भविष्य को देखते हुए माइक्रो इरिगेशन को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए योजनाएं बनाई जाएंगी। किसानों की फसल कम नहीं होनी दी जाएगी। सरकार माइक्रो इरिगेशन और फसल विविधिकरण को बढ़ावा देने के लिए 7 हजार रुपये प्रति एकड़ दर से किसानों को प्रोत्साहन राशि दे रही है। इस संबंध में सरकार आगे बढ़ रही है। सभी का सहयोग चाहिए।

सरकार आय बढ़ाने के लिए लगा रही अंत्योदय मेले
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार गरीबों की आय बढ़ाने के लिए लगातार अंत्योदय मेले लगा रही है। अभी तक 250 मेले लगाए जा चुके हैं। सरकार युवाओं को आगे बढ़ने के लिए व्यवस्था बना रही है। सब्सिडी का लाभ दिया जा रहा है। यदि इन मेलों में बजट से ज्यादा युवा सब्सिडी का लाभ लेने आते हैं तो उन्हें वर्तमान बजट से दिया जाएगा, यदि शेष रह जाते हैं तो उनके लिए अगले बजट में विशेष प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एससी में क्रीमी लेयर नहीं लाया जाएगा। क्रीमी लेयर को लेकर बीसी वर्ग के बारे में पूछे गए सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि 6 लाख की आय वर्ग में बीसी आरक्षण से जुड़ी सभी नियुक्तियां पूरी हो जाती हैं। यदि फिर भी नियुक्तियां नहीं होती तो इस आय वर्ग को बढ़ा दिया जाएगा।  

हरियाणा की स्कीमों की पीएम तक कर रहे तारीफ
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार जो योजनाएं लेकर आ रही हैं, केंद्र सरकार उन योजनाओं की न केवल तारीफ कर रही है बल्कि उन्हें देशभर में लागू करने का काम भी कर रही है। खुद प्रधानमंत्री हरियाणा की योजनाओं की भूरी-भूरी प्रशंसा कर चुके हैं।

महंगाई भत्ता 28 प्रतिशत से बढ़ाकर 31 प्रतिशत किया
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते और पेंशनभोगियों एवं परिवारिक पेंशनभोगियों के लिए महंगाई राहत की दर को एक जुलाई, 2021 से मूल वेतन एवं पेशन का 28 प्रतिशत से बढ़ाकर 31 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है। इसके अलावा नए कर्मचारियों के लिए क्रियान्वित एनपीएस योजना का शेयर केंद्र सरकार की तर्ज पर 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत करने का निर्णय भी सरकार ने लिया है। जो कि 1 जनवरी 2022 से लागू किया जाएगा ।

शून्यकाल के प्रश्नों का एक महीने के अंदर देंगे विधायकों को जवाब
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सदन में एक नई व्यवस्था शुरू करने जा रहे हैं। शन्यूकाल में विधायकों द्वारा उठाए गए सवालों का जवाब सरकार द्वारा 1 महीने के अंदर संबंधित विधायक को लिखित में दिया जाएगा। मुख्यमंत्री के इस फैसले का पूरे सदन ने स्वागत किया।  

पीएलपीए का मामला कोर्ट में विचाराधीन
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि पहले जंगल होता था तो मिट्टी का कटाव होता था। तब पंजाब भू-सरक्षण अधिनियम (पीएलपीए) बनाया गया। इसके अंतर्गत प्रदेश का बहुत सा क्षेत्र आता है। पीएलपीए से जुड़ा मामला इस समय सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static