हरियाणा महिला कांग्रेस 27 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदेश भर में करेगी विशाल प्रदर्शन

punjabkesari.in Saturday, Jun 25, 2022 - 07:03 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी) : हरियाणा महिला कांग्रेस 27 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदेश भर में जिला स्तर पर विशाल प्रदर्शनों का आयोजन करेगी।  महिला कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष सुधा भारद्वाज की ओर से सभी जिला महिला कांग्रेस की अध्यक्षों को यह निर्देश जारी किए गए हैं कि वे प्रदेश कांग्रेस कमेटी के साथ मिल कर इस प्रदर्शन को जोरदार ढंग से सफल बनाये। वह स्वयं जिला यमुनानगर में होने वाले प्रदर्शन की अध्यक्षता करेंगी। इस प्रदर्शन में उनके साथ भारी संख्या में महिला कांग्रेस के साथ साथ जिले एवं प्रदेश के कई बड़े कांग्रेसी नेता व कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। सेना में भर्ती होने की इच्छा रखने वाले युवा वर्ग के लिए इस प्रदर्शन के माध्यम से अगिनवीर योजना की हकीकत ब्यान की जाएगी।

आज यहां जारी एक ब्यान में प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुधा भारद्वाज ने कहा कि सत्ता में आने से पूर्व देश एवं प्रदेश स्तर पर भाजपा ने देश के युवाओं को हर साल करोड़ों नौकरियां देने का जो वायदा किया था, उसे पूरा करने की बजाये अब उन्हें छलने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी सभी अग्निवीरों को नौकरी देने का दावा कर उनके साथ केवल जुमलेबाजी ही कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकार सभी अग्निवीरों को नौकरी दे सकती है तो पहले अग्निपथ योजना में चयनित युवाओं को हरियाणा में पक्की नौकरी दे और बाद में चाहे चार साल के लिए अग्निपथ योजना के तहत भेज दे, ताकि युवाओं का भविष्य भी सुरक्षित रहे। सुधा भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश में 29 हजार से अधिक पूर्व सैनिक हैं, जिनमें से केवल 543 को ही नौकरी मिली है।

इससे साफ है कि मात्र 1.8 प्रतिशत को ही नौकरी मिली है, जबकि अग्निवीर को 75 प्रतिशत वापस आएंगे, उन्हें कैसे नौकरी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना युवाओं के लिए हानिकारक है। चार साल के लिए युवाओं को सेना में लिया जाएगा। छह माह की ट्रेनिंग होगी और करीब छह माह वे छुट्टी पर रहेंगे। ऐसे में दो साल की नौकरी होते ही अंतिम वर्ष युवाओं को भविष्य की चिंता सताने लगेगी। उन्होंने कहा कि युवाओं के सामने आगे के रोजगार को लेकर चिंता होगी। देश की सुरक्षा के लिए भी यह खतरनाक है।

उन्होंने कहा कि देश की सेना का 10वां जवान हरियाणा से आता है। एक तरफ युवाओं के रोजगार छीने जा रहे हैं और देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। किसी भी सैनिक को तैयार होने में 7 से 8 साल का समय लगता है, परंतु योजना के  तहत 4 साल में ही रिटायर कर दिया जाएगा, तब नौजवान क्या करेगा। यदि कोई नौजवान गलत दिशा में चलता है तो उससे समाज को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। ऐसे में यह योजना युवाओं के जीवनकाल में नौकरी के नाम पर लिखा जाने वाला सिर्फ एक काला अध्याय ही है। उन्होंने कहा कि इस योजना के लागू होने से दो तरह की सेना हो जाएगी। एक नियमित और एक चार साल वाली।  उन्होंने कहा कि इससे पहले की देर हो जाए सरकार को अबिलंब इसे वापिस ले लेना चाहिए और युवाओं के बेहतर भविष्य के लिए स्थायी नौकरियों का प्रबंध करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना की विश्व में अपनी धाक है, लेकिन सरकार सेना को ही अग्निपथ योजना से खत्म करना चाहती है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static