कारगिल युद्ध:11 दुश्मनों को मार गिराया था हरियाणा के लाल ने, 21 वर्ष में देश पर हो गए थे कुर्बान

7/26/2020 5:19:07 PM

नारनौंद(हरकेश जांगड़ा): नारनौंद उपमंडल के गांव मिलकपुर के रहने वाले पवित्र कुमार ने कारगिल यूद्ध में 11 दुश्मनों को मार गिराया था और उसके बाद वे शहीद हो गए थे। यह हरियाणा वासियों के लिए गर्व की बात है। पवित्र कुमार ने देश के लिए जो बलिदान दिया है आज भी मिल्कपुर गांव  के लोग नही भूल सके। शहीद पवित्र कुमार की याद में गांव में स्मृति स्थल बनाया गया है। परिजनों की सरकार व प्रशासन से मांग है कि स्कूल का नाम भी पवित्र कुमार के नाम से रखा जाए।
PunjabKesari
छोटी आयु में ही दी अपनी शहादत
9 जुलाई 1999 का वह दिन बडा मनहूस रहा होगा जब कारगिल युद् में हिसार जिले के मिलपुर गांव के लाडले पवित्र कुमार मात्र 21 वर्ष छोटी आयु में ही अपनी शहादत दे डाली लेकिन मरते मरते भी यह अवविवाहित बहादुर सैनिक  11 दुश्मनों को मौत के घाट ऊतार गया और अपने फोजी पिता किताब सिंह और माता सुजानी देवी की आखों में गर्व के आंसु भर गया। शहीद के परिजनों के अनुसार आर्थिक सहायता तो प्रदान की गई थी लेकिन  उसकी अत्येष्ठी के समय सरकार के एक नुमाइदे द्वारा गावं  के स्कूल का नाम शहीद के नाम करने की घोषणा अब तक अधूरी पड़ी है। परिजनो ने मांग कि है कि अगर सरकार वास्तव  में शहीदों के सम्मान को प्राथमिकता देती है तो उसके गांव में स्थापित सरकार हाई स्कूल पूव घोषणा अनुसार शहीद पवित्र कुमार का नाम दे तब जाकर शहीदो को सच्ची श्रदाजलि होगी और आनेवाली पीढ़िया  उससे प्रेरणा लेती रहेगी।
PunjabKesari
आज भी मां को सताता है गम 
पवित्र कुमार की मां सुजानी देवी को बेटे के जाने का गम आज भी सताता रहता है आखों में आज भी बेटे को खोने का दर्द झलता है वह कहती है जैसे मेरी कोख  से ऐसे  बेटे को जन्म दिया ऐस बेटे देश की सभी माताओं के पैदा होने चाहिए।  माता सुजानी देवी ने कहा  कि  पवित्र कुमार शुरु से मिलनसार, प्रेम भाव रखने वाला  बेटा था उसका जन्म गांव में हुआ था और गांव से 12वीं  की परीक्षा पास की थी। इसके बाद वह फोज में 1996 में 8 जाट रैजीमेंट में भरती हो गया। उसने 9 जुलाई 1999 को दुश्मनों को मार गिराया और भारत देश का झंडा लहराकर खुद देश के लिए शहीद हो गया। 
PunjabKesari
ग्रामीणों का कहना है कि शहीद के नाम पर स्मारक स्थल बनाया गया है परंतु उसकी अभी सरकारी स्तर पर सुधार की जरुरत है। उन्होने बताया कि  यादगार में गांव में स्मृति स्थल बनाया गया है। उन्होंने कहा कि वह गांव में सबके चेहते थे। और कबडडी का खेल खेलते थे। शहीद के नाम से एक युवा संगठन भी बनाया गया है। उन्होने कहा कि पवित्र कुमार ने देश के लिए सच्ची श्रदांजलि दी है।  
 


Isha

Related News