अगर वह मर्यादा को छोड़ कर बात करेंगे तो हम भी मर्यादा में नहीं रहने वाले  : मिड्ढा

punjabkesari.in Wednesday, Apr 06, 2022 - 08:53 AM (IST)

चंडीगढ़(चन्द्रशेखर धरणी): जींद विधायक कृष्ण मिड्डा ने कहा कि एक तरफ अरविंद केजरीवाल दिल्ली को पानी देने की बात कहते हैं। मूनक का पानी हरियाणा से होकर दिल्ली पहुंचता है। वही उनकी पार्टी का यह मुख्यमंत्री इतनी ओछी बात करता है।

इस पर केजरीवाल को उन्हें फटकार लगानी चाहिए।मिड्ढा ने पंजाब मुख्यमंत्री को चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि अगर वह मर्यादा को छोड़ कर बात करेंगे तो हम भी मर्यादा में नहीं रहने वाले। हरियाणा के सभी दल मर्यादा को त्याग देंगे। पंजाब का मुख्यमंत्री इस प्रकार की अशोभनीय बात करें यह बात ठीक नहीं है। मिड्ढा ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा हो या किरण चौधरी सभी ने इस बात पर सरकार का पूर्ण समर्थन किया है। हम सभी ने हरियाणा की मिट्टी में जन्म लिया। बेशक राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं। लेकिन हरियाणा के हितों की लड़ाई में हम सभी एक हैं। हमें 60-40 तय औसत के हिसाब से सभी चीजों में हक मिलना चाहिए। किसी भी व्यवस्था में हरियाणा को हक नहीं दिया गया। आज भी ज्यादातर सिस्टम पर पंजाब का कब्जा है। पंजाब ने बड़े भाई होने का नाजायज फायदा उठाया है। शुरू से ही पंजाब की सोच हरियाणा को लेकर गलत रही है। 

मिड्ढा ने कहा कि चौधरी भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा प्रशासक पद के लिए हरियाणा और पंजाब को समय अवधि के हिसाब से मिलना चाहिए इस बात का मैं पूर्ण समर्थन करता हूं। लेकिन हमेशा पंजाब का प्रशासक बिठाया जाता रहा जो अपने व्यक्तियों को एडजस्ट करने में लगे रहे। हरियाणा को कभी मौका नहीं मिला। इसलिए हरियाणा के लोगों को भी इसमें हक मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब ने हमेशा छोटे भाई के हक को मारने का काम किया है। बड़े भाई को बड़प्पन दिखाना चाहिए था। लेकिन हमेशा नाजायज फायदा हरियाणा का उठाया गया है। जबकि पूर्ण चंडीगढ़ हरियाणा का ही है।

चंडीगढ़ हरियाणा का है 
हरियाणा विधानसभा का बुलाया गए आपात सत्र में प्रदेश के सभी राजनीतिक दल एक सुर में बोले। विपक्ष हो या सत्ता पक्ष सभी हरियाणा के हितों की लड़ाई के लिए तैयार दिखे। हाल ही में पंजाब विधानसभा द्वारा चंडीगढ़ और एसवाईएल को लेकर पास किए गए प्रस्ताव पर यह आपात सत्र बुलाया गया था। जिस पर बातचीत करते हुए जींद विधायक कृष्ण मिड्डा ने कहा कि एसवाईएल और चंडीगढ़ हरियाणा का मुद्दा है। जिस पर सभी दल एकजुट हैं। चंडीगढ़ हरियाणा का है और हरियाणा का इस पर पूर्ण रूप से अधिकार है। कॉमेडियन व्यक्ति भगवंत मान द्वारा यह प्रस्ताव यह देखने के लिए लाया गया कि मुख्यमंत्री तो बन गया हूं लोग उनकी सुनते हैं या नहीं। लेकिन उन्होंने यह गैर लोकतांत्रिक बात कही है। जिस बात का कोई औचित्य ही नहीं था। वह गलत बात कही गई है। उन्हें अपने शब्दों के इस्तेमाल से पहले सोचना चाहिए था।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static