विधायकों को मिलेगी अब और ताकत, अब आन द स्पाट नहीं पेश हो पाएगा कोई भी बिल

8/9/2020 3:27:32 PM

चंडीगढ़ (धरणी): विधायकों की कमेटियों की बैठक में लिए फैंसलों पर अमलीजामा पहनाया गया या नही। इसे सुनिश्चित करने के लिए अब एक्शन टेकन रिपोर्ट मांग ली गई है। पिछले 5 साल विधानसभा में कमेटियों ने जो भी फैंसले लिए उनकी रिपोर्ट अब सी.ए.जी. को 1 माह में पेश करने को कहा गया है। पहले कभी ऐसा देखने को नही मिला था। क्योंकि पहले जो भी फैंसले लिए जाते थे उन पर क्या कार्यवाही की गई इसके बारे में अधिकारियों से किसी प्रकार की कोई जवाबदेही नही की जाती थी।

विधायकों की इन कमेटियों में अधिकारी भी पहुंचते हैं जिसमें उन्हे मीटिंग के दौरान लिए फैंसलों या किसी अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही के आदेश पारित किए जाते थे लेकिन उसके बाद सम्बन्धित अधिकारियों ने क्या एक्शन लिया यह नही पूछा जाता था। लेकिन अब ऐसा नही होगा क्योंकि इस बात को लेकर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचन्द गुप्ता ने एक बडा फैंसला लिया है। इससे विधायकों की पावर और हौंसला काफी बढ जाएगा और अधिकारी विधायकों के आदेशों की अनदेखी नही कर पाएगें। इस एक्शन टेकन रिपोर्ट के डर से अधिकारी विधायकों के पूरी तरह से जवाबदेह बन जाएगें और इससे जनता के हितों के कार्य जल्द ही अमल में लाए जा सकेगें साथ ही नीति निर्धारण में विधायकों की भूमिका तय करने की तैयारी कर दी गई है।

इस बारे में गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया है कि विधानसभा में जो भी बिल पेश किए जाते थे उनमें से कुछ आन दी स्पाट ही पेश किए जाते थे जो कि ठीक नही था। जिसके लिए हमने चीफ सेकेटरी और सरकार से निवेदन किया कि जो भी प्रशन या बिल कम से कम 5 दिन पहले नही आया तो उसे विधानसभा सत्र के दौरान पेश नही किया जाएगा। इससे विधायक बिल पर अच्छी तरह से स्टडी कर पाएगें। जिससे एक तो विधायकों की भूमिका नजर आएगी और बिल में त्रुटि की गुंजाइश भी नही रहेगी। उन्होने बताया कि इस बारे मेें उपमुख्यमन्त्री एवम् उघोग मन्त्री चैटाला को भी नई उघोगनीति बनाने में विधायकों की सलाह लेने की बात लिखी है। गुप्ता ने कहा पालिसी मेकिंग में विधायकों का रोल होता है जो कि नजर नही आता था लेकिन इससे अब नजर आएगा।


Isha

Related News