ऋषि-मुनि एकांतवास में साधना व तप करते थे, इसलिए लॉकडाउन का सदुपयोग करें: मनोहर

4/12/2020 10:06:32 PM

चंडीगढ़ (धरणी): मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर रविवार को प्रदेश में कोरोना की स्थिति के बारे ‘हरियाणा आज’ कार्यक्रम के माध्यम से लोगों से रू-ब-रू हुए। इस दौरान उन्होंन लॉकडाउन के दौरान जनता को धैर्य बनाए रखने के लिए ऋषि-मुनियों की मिसाल दी। उन्होंने कहा कि जो लोग लॉकडाउन अवधि के दौरान अपने घरों में रह रहे हैं और एकांतवास में जीवन व्यतीत कर रहे हैं, उनको भी इस समय का सदुपयोग करना चाहिए और नई ऊर्जा का संचार करना चाहिए। जैसे कि प्राचीन काल में हमारे ऋषि-मुनि एकांतवास में जाकर साधना व तप करते थे और अपने आप में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते थे।

'कोरोना की लड़ाई में हरियाणा दूसरे राज्यों से बेहतर'
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा में कोरोना वायरस से लडऩे के लिए किये जा रहे प्रबन्ध अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में लगभग 25 हजार लोगों को निगरानी में रखा गया है तथा लगभग 3900 लोगों के नमूने टेस्ट के लिए भेजे गए हैं।  मुख्यमंत्री ने हरियाणा के कोरोना वायरस से लड़कर ठीक होकर घर लौटे पांच व्यक्तियों व उनके परिवार के सदस्यों से सीधा संवाद किया और मुख्यमंत्री ने उनको इस जीत के लिए बधाई व शुभकामनाएं दी और उनके अस्पताल के अनुभवों की जानकारी भी ली। 

'कोरोना की लड़ाई को जीतने वाले वास्तविक सैनिक'
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश के लोगों से अपील की है कि उन्हें कोरोना वायरस से लडऩे के लिए हौसला रखना होगा। सरकार द्वारा इस लड़ाई से लडऩे के लिए सभी प्रकार के आवश्यक प्रबन्ध किये गए हैं। इन्ही प्रबन्धों के फलस्वरूप राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों में से जो लोग अस्पतालों में ईलाज करवाकर ठीक होने के उपरांत अपने घरों को लौट गए हैं, वे इस लड़ाई को जीतने वाले वास्तविक सैनिक हैं। हमें ऐसे लोग सकारात्मक ऊर्जा व प्रेरणा देते हैं।

'लॉकडाउन का असर लोगों की आर्थिक स्थिति पर पड़ रहा'
मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन अवधि के दौरान लोगों की आर्थिक स्थिति पर असर पड़ा है, चाहे वह किसान है, मजदूर है या छोटा दुकानदार है। उन्होंने लोगों से अपील की कि हमें यह सोचना होगा कि ऐसे लोगों की आर्थिक स्थिति ठीक करने के लिए किस प्रकार मदद करनी है। सरकार इस ओर पूरा प्रयास कर रही है।

'एकांतवास का सदुपयोग करें'
मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग लॉकडाउन अवधि के दौरान अपने घरों में रह रहे हैं और एकांतवास में जीवन व्यतीत कर रहे हैं, उनको भी इस समय का सदुपयोग करना चाहिए और नई ऊर्जा का संचार करना चाहिए। जैसे कि प्राचीन काल में हमारे ऋषि-मुनि एकांतवास में जाकर साधना व तप करते थे और अपने आप में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Shivam

Recommended News

static