300 में से महज 4 पंचायतों की शराब को ना, बाकी पंचायतों को अपने यहां शराब से नहीं परहेज

1/19/2021 9:41:18 AM

जींद : जींद जिले की 300 में से महज 4 पंचायतों ने अपने यहां शराब के ठेके खोले जाने को ना कही है। 296 पंचायतों को अपने गांव में शराब ठेके खुलने से परहेज नहीं है। ग्राम पंचायतों को 31 दिसम्बर से पहले 10 प्रतिशत मतदाताओं की सहमति के साथ गांव में शराब ठेका नहीं खोले जाने को लेकर ग्राम सभा की बैठक में प्रस्ताव पास कर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय में जमा करवाने थे।

300 में से केवल 4 ग्राम पंचायतों ने अपने यहां वित्तीय वर्ष 2021-22 में शराब का ठेका नहीं खोलने के विधिवत प्रस्ताव पारित कर विभाग को भेजे हैं। आबकारी एवं कराधान विभाग ने जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय के माध्यम से मिले इन 4 ग्राम पंचायतों के प्रस्तावों की जांच के बाद उन्हें मुख्यालय भेज दिया है। अगर ये पंचायतें शराबबंदी के नॉर्म को पूरा करती होंगी तो 31 मार्च के बाद इन गांवों में शराब ठेका नहीं खुलेगा। 
 
इन ग्राम पंचायतों की शराब को ना 
जींद के किशनपुरा, बहबलपुर, लोहचब और जुलाना के रामकली गांवों की पंचायतों ने अपने यहां वित्तीय वर्ष 2021-22 में शराब ठेके नहीं खोले जाने के प्रस्ताव विभाग और सरकार को भेजे हैं। लोहचब गांव के शहीद भगत सिंह युवा क्लब द्वारा जो प्रस्ताव गांव में शराब ठेका नहीं खोले जाने को लेकर भेजा गया है, उसे गांव के सरपंच और 10 फीसदी मतदाताओं की सहमति हासिल है। इन गांवों ने पिछले साल भी शराबबंदी के प्रस्ताव भेजे गए थे लेकिन आबकारी विभाग के नियमों को पूरा नहीं कर पाने के कारण इन गांवों में शराबबंदी नहीं हो पाई थी। 
 
चालू वित्तीय वर्ष में जिले में 181 ठेके और इतने ही उप-ठेके 
चालू वित्तीय वर्ष में जींद जिले में शराब के 181 ठेके और इतने ही सब-वैंड चल रहे हैं। पिछले साल 100 ग्राम पंचायतों ने शराबबंदी के लिए प्रस्ताव भेजे थे लेकिन 31 गांव ही शराबबंदी के नॉर्म पूरे कर पाए थे। 
 


Isha

Related News