लॉकडाउन: हरियाणा में थम नहीं रही मुनाफाखोरी और कालाबाजारी, जारी रहेगी छापामारी

4/26/2020 11:57:42 AM

चंडीगढ़(धरणी): हरियाणा में लॉकडाउन के दौरान अभी भी आवश्यक चीजों की कालाबाजारी, जमाखोरी और अत्यधिक दाम वसूलने का सिलसिला पूरी तरह थमा नहीं है। प्रदेश सरकार भी ऐसे दुकानदारों व थोक विक्रेताओं पर लगातार अपना शिकंजा कस रही है। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अंतर्गत सभी जिलों में जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक की निगरानी में विभाग की ओर से छापेमारी अभियान जारी है। 

हरियाणा ने इस संदर्भ में अब तक अपनी एक्शन टेकन रिपोर्ट से केंद्र सरकार को भी अवगत करवाया है। केंद्र सरकार को बताया गया है कि प्रदेश सरकार उनके निर्देशानुसार विभिन्न जिलों में ‘एसेंशियल कमोडिटीज एक्ट 1955’ के अंतर्गत विभिन्न केमिस्ट दुकानों, फार्मासीज, ड्रग होलसेलर व अन्य दुकानों पर निरीक्षण के साथ छापेमारी कर रही है।

एक्शन टेकन रिपोर्ट में हरियाणा सरकार ने केंद्र को बताया कि अब तक प्रदेश में 886 ड्रग होलसेलर के गोदामों की इंस्पेक्शन की जा चुकी है। जबकि 9391 केमिस्ट दुकानों को भी खंगाला जा चुका है। 654 ड्रग होलसेलर, केमिस्ट और रिटेलर्स के चालान भी किये गए हैं। जबकि मुनाफाखोरी और आवश्यक चीजों का अत्यधिक दाम वसूलने के आरोप में 21 एफआईआर दर्ज हो चुके हैं। केंद्र को सरकार ने बताया कि प्रदेश में छापेमारी अभियान आगे भी जारी रहेगा।

दरअसल, प्रदेश सरकार ने केंद्र के निर्देश पर ये आदेश दिए थे कि सूबे में कोई भी दुकानदार महामारी के इस दौर में मास्क, सैनिटाइजर समेत आवश्यक सामग्री की न तो जमाखोरी करेगा, न मुनाफाखोरी और न ही कालाबाजारी। इस सामग्री का दाम भी निर्धारित प्राइस से अधिक नहीं होगा। बाकायदा प्रदेश सरकार ने 25  चीजों को महामारी के दौरान ‘एसेंशियल कमोडिटी’ घोषित करते हुए आदेश जारी किए थे।

लेकिन हैरत की बात यह है कि संकट के इस दौर में भी कई दुकानदार, केमिस्ट संचालक और ड्रग होलसेलर लोगों से जरूरी चीजों के अधिक दाम वसूलने के साथ साथ मास्क सैनिटाइजर व अन्य चीजों की मुनाफाखोरी जमाखोरी और कालाबाजारी में जुटे हुए है। विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास के अनुसार प्रदेश में अति आवश्यक चीजों की जमाखोरी, मुनाफाखोरी और उनके अधिक दाम वसूलने के मामले बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। इसलिए प्रदेश सरकार भी ऐसे दुकानदारों और होलसेलर्स पर सख्त कार्रवाई से पीछे नहीं हट रही है।

सबसे ज्यादा चालान रोहतक में, एफआईआर मेवात में
प्रदेश सरकार द्वारा की गई कार्रवाई के अंतर्गत अब तक रोहतक जिले में ऐसे दुकानदारों, ड्रग होलसेलर्स व केमिस्ट संचालकों के सबसे ज्यादा 143 चालान किए गए हैं। इसी तरह अंबाला में अब तक 30, भिवानी में 10, चरखी दादरी में 0, फरीदाबाद में 103, फतेहाबाद में 24, गुरुग्राम में 77, हिसार में 6, झज्जर में 13, जींद में 46, कैथल में 23, करनाल में 12, कुरुक्षेत्र में 21, मेवात में 6, नारनौल में 1, पलवल व पंचकूला में 0, पानीपत में 56, रेवाड़ी में 36, सिरसा में 30, सोनीपत में 7 व यमुनानगर में 10 चालान किया गए हैं। जबकि मुनाफाखोरी और चीजों का अधिक दाम वसूलने के आरोप में फरीदाबाद में 5, गुरुग्राम में 2, मेवात में 7, पानीपत में 2 और रेवाड़ी में पांच 5 एफआईआर भी दर्ज की गई।


Edited By

vinod kumar

Related News