हरियाणा में जरूरत पडऩे पर बढ़ाए जाएंगे कोरोना वैक्सीनेशन के सेंटर: राजीव अरोड़ा

1/17/2021 12:43:24 AM

चंडीगढ़ (धरणी): लंबे इंतजार के बाद आखिर देश को उम्मीद की किरण नजर आ गई है, क्योंकि अब कोरोना वैक्सीन लगने की शुरुआत कर दी गई है। हरियाणा में भी देश के दूसरे राज्यों की तरह 16 जनवरी के दिन वैक्सीन की पहली डोज दी गई। हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृह विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राजीव अरोड़ा के नेतृत्व में डीजी कार्यालय के सीनियर स्टाफ ने वैक्सीन लगवाने की शुरुआत की। पंजाब केसरी से बातचीत के दौरान अरोड़ा ने अपने इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बताते हुए कहा कि वैक्सीन की अगली खेप आने पर भी उनके पास पुख्ता प्रबंध हैं। अरोड़ा से बातचीत के कुछ अंश आपके सामने प्रस्तुत है-

प्रश्न:- हरियाणा में कहां-कहां यह वैक्सीन डोज दी जा रही है?
उत्तर:- आज 77 साइट्स पर हमारा टीकाकरण अभियान चल रहा है। यह आज सभी जिलों में शुरू हो चुका है। भारत सरकार की जो गाइडलाइन आई है दूसरा इक्यूनाईजेशन प्रोग्राम को डिस्टर्ब किए बिना इसे हफ्ते में करना है। हम कोशिश करेंगे कि अगर हमें साइट्स की संख्या बढ़ानी है तो बढ़ा देंगे। मैं पहले से कहता आया हूं कि हमारे पास 5000 वैक्सीनेटर हैं और हमने 18 से 19 हजार साइट्स सिलेक्ट की हुई है। उनको इस्तेमाल हम जब चाहे कर सकते हैं। जितनी-जितनी सप्लाई आती रहेगी हम अपनी साइट्स को बढ़ाते जाएंगे।

प्रश्न:- कोरोना महामारी के समय मुख्यमंत्री, गृहमंत्री और आपके नेतृत्व में युद्ध स्तर पर काम हुआ और अब वैक्सीन आना कितनी बड़ी उपलब्धि मानते हैं? 
उत्तर:- भारत के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है और बहुत से देशों में भारत से पहले भी वैक्सीन आ चुकी है। लेकिन वैक्सीन देने की संख्या उनकी आज भी बहुत कम है। आप देखेंगे कि जिस प्रकार से सप्लाई आ रही है इस महीने के अंत तक या अगले महीने तक कवर किए लोगों की संख्या बहुत अधिक होगी। क्योंकि हमारा सारा सिस्टम बहुत शानदार स्तर पर काम कर रहा है। हमारे देश में, हरियाणा में बहुत बड़ी संख्या में टीमें तैयार बैठी हैं।

प्रश्न:- वैक्सीन लगवाने वाले लोगों की मॉनिटरिंग कैसे की जाएगी ?
उत्तर:- जैसा की हिदायतें दी गई हैं वैक्सीन लगाए जाने के बाद आधे घंटे तक ऑब्जरवेशन रूम में बैठना पड़ता है ताकि किसी प्रकार की दिक्कत हो तो पता चल सके। आज तो सबसे पहले हमारे हेल्थ एंड सैनिटेशन वर्कर और सीनियर डॉक्टर्स ने टीके लगवाए जो इस चीज को बेहतर तरीके से समझते हैं। 28 दिन के बाद अगली डोज लगानी है उसके 14 दिन के बाद एंटीबॉडी डेवेलप हो जाती है। हम उम्मीद करते हैं कि जो इसकी ट्रांसलेशन चेन को तोडऩे में बहुत बड़ा काम यह किया गया है।

प्रश्न:- वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन भी बहुत बड़ा चैलेंज है क्या मानते हैं?
उत्तर:- हरियाणा में बहुत सारे वैक्सीन ऐसे हैं जो स्टेट के बजट से खरीद कर हम लगा रहे हैं। बहुत बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे यहां चल रहा है। इसलिए हमारा सारा का सारा कोविड चेन इंफ्रास्ट्रक्चर, वेयर हाउस इंफ्रास्ट्रक्चर, ट्रांसपोर्टेशन यह सारी चीजें बड़े सिस्टम से चल रहे हैं। जैसे ही हमें भारत सरकार से यह टीके उपलब्ध हुए इसकी डिस्ट्रीब्यूशन बिना दिक्कत के कोने कोने पर जो भी हमारी साइट थी वहां कर दी गई और आगे भी कोई दिक्कत नहीं आएगी।


Shivam

Related News