डेरा प्रमुख के असली-नकली होने को लेकर हाईकोर्ट के फैसले पर बोले जेल मंत्री

punjabkesari.in Monday, Jul 04, 2022 - 02:49 PM (IST)

फतेहाबाद : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम के असली-नकली होने को लेकर न्यायालय में दायर की गई याचिका को पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनाते हुए पिटीशन दायर करने वाले डेरा प्रेमियों को जमकर फटकार लगाई। इसे लेकर जेल मंत्री रणजीत सिंह ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि कोर्ट ने साफ कर दिया कि पैरोल पर जेल से बाहर आए बाबा ही असली हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में याचिका दायर कर कोर्ट का समय बर्बाद नहीं करना चाहिए।

बिजली मंत्री ने कहा इस याचिका से कोर्ट का समय हुआ खराब

बिजली मंत्री फतेहाबाद में एक बैठक लेने पहुंचे थे। मीटिंग लेने के बाद उन्होंने डेरा प्रमुख को लेकर कोर्ट में दायर की गई याचिका पर को लेकर कहा कि उन्होंने पहले ही कहा था कि डेरा प्रमुख के नकली होने को लेकर फैलाई जा रही बात बेबुनियाद है। मंत्री रणजीत चौटाला ने कहा कि जेल जाने के बाद बाबा का परिवार उनसे कई बार मिला है। लेकिन उन्होंने कभी भी ऐसी कोई बात नहीं की। उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ता ने कोर्ट का समय नष्ट किया है। ऐसे में याचिकाकर्ता पर क्या कार्रवाई होगी, यह कोर्ट ही निर्धारित करेगा। जेल मंत्री ने बताया कि डीजीपी की निगरानी में बाबा राम रहीम की सुरक्षा को लेकर पूरी मॉनिटरिंग की जा रही है। इस प्रकार की याचिकाओं से कोर्ट के साथ सभी का समय नष्ट होता है।

बाबा के नकली होने को लेकर डेरा प्रेमियों ने दायर की थी याचिका

दरअसल रोहतक की सुनारिया जेल से पैरोल पर बाहर आए डेरा प्रमुख राम रहीम को लेकर कुछ डेरा प्रेमियों ने चौकाने वाले खुलासे किए थे। उनका दावा था कि बागपत में पैरोल पर रह रहे राम रहीम नकली हैं। जबकि असली बाबा का तो उदयपुर से किडनैप हो चुका है। यही नहीं डेरा प्रेमियों ने बाबा की शारीरिक बनावट में फर्क की बात भी कही थी। उनका कहना था कि बाबा का कद एक इंच बढ़ गया है। ऊंगलियों और हाथ के साईज में भी फर्क दिख रहा है। यही नहीं डेरा प्रेमियों ने तो यह दावा भी कर दिया था कि बागपत आश्रम में रह रहे बाबा अपने पुराने दोस्तों को भी नहीं पहचान रहे। इस दावे को लेकर डेरा प्रेमियों ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी।

याचिका खारिज कर हाईकोर्ट ने की सख्त टिप्पणी

राम रहीम के असली-नकली होने को लेकर डेरा प्रेमियों की याचिका पर कार्रवाई करते हुए कोर्ट ने पिटीशन दायर करने वालों को जमकर फटकार लगाई। कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा कि हाईकोर्ट ऐसे मामलों की सुनवाई के लिए नहीं है। यही नहीं कोर्ट ने कहा कि क्या याचिका दायर करने वालों ने फिक्शनल मूवी देख ली है। पैरोल पर आया राम रहीम गायब कैसे हो सकता है। हाईकोर्ट ने यहां तक कहा कि पिटीशन दाखिल करते वक्त दिमाग का इस्तेमाल करना चाहिए।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भीबस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static