हिसार लाठीचार्ज: प्रशासन और किसानों में हुई सुलह, 2 घंटे से ज्यादा चली मैराथन बैठक में बनी बात

5/24/2021 6:35:17 PM

हिसार (विनोद सैनी): हिसार में 16 मई को चौधरी देवीलाल संजीवनी अस्पताल के उद्घाटन के दौरान हुई हिंसा के बाद जारी गतिरोध सोमवार को किसान नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों की 2 घंटे से अधिक चली बैठक के बाद समाप्त हो गया। वार्ता के सिरे चढऩे के बाद सभी किसानों ने अपने विरोध प्रदर्शन को समाप्त करने की घोषणा की। इसके बाद विरोध प्रदर्शन में शामिल किसान वापस लौट गए।

किसान नेताओं का दावा है कि प्रशासन ने 1 महीने के अंदर हिसार में 16 मई की घटना के बाद किसानों के ऊपर दर्ज केस वापस लेने का वादा किया है। 1 महीने के अंदर प्रशासन की तरफ से लीगल ओपिनियन लिया जाएगा, जिसके बाद दर्ज सभी किसानों के केस वापस ले लिए जाएंगे। इस मीटिंग में उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी, मंडलायुक्त चंद्रशेखर और पुलिस अधिकारी ने किसानों की 26 सदस्य कमेटी से बातचीत करके यह फैसला लिया है।

बैठक में किसान आंदोलन के लिए बनाई गई 40 सदस्य संयुक्त किसान मोर्चा कमेटी के सदस्य राकेश टिकैत, अशोक धावले, हरियाणा के किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी, पंजाब के किसान नेता राज्जेवाला सहित कई बड़े किसान नेता शामलि रहे। इस बैठक में साथ ही यह निर्णय लिया गया कि प्रदर्शन के दौरान उगेलन निवासी किसान रामचंद्र की मृत्यु के बाद उसके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी। 

बैठक के बाद बाहर निकले राकेश टिकैत ने बताया कि दोनों पक्षों में आपसी सहमति बन गई है। 16 मई की घटना के केस को वापस लेने की सहमति बनी है। पूरे किसान आंदोलन में दर्ज किसानों के खिलाफ पुलिस केस वापस लिए जाने के लिए दिल्ली में बड़े आंदोलन के दौरान मांग रखी जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों की बात पर विश्वास करना ही होगा। अगर 1 महीने के बाद भी केस वापस नहीं लिए जाते हैं तो उनके पास फिर से आंदोलन का रास्ता बचता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vinod kumar

Related News

Recommended News

static