किसान मोर्चा का बड़ा ऐलान- चढूनी की राजनीतिक गतिविधियों से कोई संबंध नहीं

1/18/2021 4:26:30 PM

हरियाणा डेस्क: केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। मांगे पूरी ना होने पर किसानों ने अब इस आंदोलन को तेज कर गिया है, लेकिन अब इस आंदोलन में किसानों के बीच फूट भी नजर आने लगी है। इस विवाद की शुरुआत किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी की तरफ़ से कल दिल्ली में बुलाई गई बैठक से हुई। जिसमें विपक्षी पार्टियों के नेता मौजूद रहे। इस बैठक से संयुक्त किसान मोर्चा नाराज है। 

PunjabKesari, haryana

संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरनाम चढूनी को लेकर एक प्रेस नोट जारी कर स्पष्टीकरण दिया। प्रेस नोट में लिखा कि संयुक्त किसान मोर्चा चढूनी द्वारा बुलाई गई समस्त राजनीतिक दलों की बैठक से संबंद नहीं रखता है। चढूनी द्वारा राजनीतिक दलों के साथ की जा रही गतिविधियों से मोर्चा संबंध नहीं रखता है। राजनीतिक दलों के साथ चढूनी की चल रही गतिविधियों पर ध्यान देने के बाद कल मोर्च की एक आम सभा में चर्चा करके एक समिति का गठन किया है, जोकि इस मामले में जांच करेगी और 3 दिनों में अपनी रिपोर्ट देगी। इसके बाद संयुक्त मोर्चा आगे के कदम उठाएगा। 

वहीं गुरनाम सिंह चढ़ूनी के निष्कासन को लेकर किसान एकता मोर्चा ने स्पष्टीकरण दिया है। उन्होंने कहा कि यह सब अफवाहें हैं, चढ़ूनी को किसान मोर्चे से निष्कासित नहीं किया गया है। मामले की जांच करने के लिए एक समिति बनाई गई है। अब देखना होगा कि समिति द्वारा चढूनी को लेकर क्या रिपोर्ट सौंपी जाती और फिर क्या कार्रवाई मोर्चा द्वारा की जाएगी। 

 


vinod kumar

Related News