नोडल अधिकारी पूर्व मंत्री का फोन नहीं उठाते तो आम आदमी का क्या उठाते होंगे: यादव

5/11/2021 11:51:25 AM

चंडीगढ़(  चंद्रशेखर धरणी): हरियाणा प्रदेश में आज सबसे अधिक कोई जिला कोरोना से पीड़ित है तो वह है गुरुग्राम। गुरुग्राम में आज क्या हालात हैं और किस प्रकार की सरकारी सेवाएं लोगों को उपलब्ध हो पा रही हैं। इन सब बातों को जानने के लिए आज पंजाब केसरी ने चंडीगढ़ पहुंचे पूर्व मंत्री अजय यादव से विशेष बातचीत की। अजय यादव अहीर बेल्ट के कद्दावर नेताओं में से एक हैं और कांग्रेस सरकार में एक ताकतवर मंत्री थे। उनके पुत्र भी कांग्रेस पार्टी के मौजूदा विधायक हैं।उन्होंने आज प्रदेश सरकार को पूर्णतय फेल बताया।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने जिन आईएएस अधिकारियों को जिले के नोडल अधिकारी बनाया है। वह विधायकों और नेताओं के फोन नहीं उठाते। लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए नेता उनसे संपर्क करना चाहते हैं। लेकिन वह किसी को तवज्जो नहीं दे रहे।  एक नोडल अधिकारी की शिकायत उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता को एक लेटर देकर की है और मांग की है कि उनके खिलाफ कार्रवाई करो। बातचीत के कुछ अंश आपके सामने प्रस्तुत हैं

प्रशन:- कोरोना लगातार तांडव मचा रहा है। इस बीच सरकार की तैयारियों से कितना संतुष्ट हैं ?
उत्तर:-
कोरोना के पिछले दौर के बाद सरकार ने इसे बहुत हल्के में लिया। दूसरी वेब में आज देश में करीब चार लाख एक्टिव केस हैं। ऑक्सीजन विकट समस्या बनी हुई है। करीब 9080 मीट्रिक टन ऑक्सीजन जनवरी 2021 में इन्होंने एक्सपोर्ट कर दी। कोई अस्पताल नहीं बनाया। वेंटिलेटर की भारी कमी है। सिविल अस्पतालों में वेंटिलेटर हैं ही नही अगर हैं तो उन्हें चलाने वाला कोई नहीं। 1 साल में जो इनको काम करना चाहिए था नहीं किया। अभी तो तीसरी वेब और आने की बात वैज्ञानिक कर रहे हैं। जो बहुत खतरनाक होगी। मैं कहना चाहता हूं कि सरकार की तैयारियां जीरो है। रेमडेसीविर, ऑक्सीजन की कालाबाजारी खुलेआम हो रही है।

प्रशन:- ऐसे हालातों में आपका चंडीगढ़ आना हुआ। क्या खास कारण थे ?
उत्तर:-
मैं स्पीकर साहब से मिलने आया था कि कुछ अधिकारी टेलीफोन को अटेंड नहीं करते। विधायक का फोन नहीं उठाते। मेरे जैसे सीनियर पूर्व मंत्री का फोन नहीं उठाते तो आम आदमी का क्या उठाते होंगे।जो फोन सरकार ने इन्हें सरकारी खर्चे पर दे रखा है। आईएएस अधिकारी जिले के नोडल अफसर बना रखे हैं। वह अटेंड नहीं कर रहे। मैंने मुख्यमंत्री के पीए से भी फोन पर बात की है। दुर्भाग्य की बात है कि मुख्यमंत्री से भी मेरी बात नहीं हो पा रही। मेरा कहना है कि आज कुछ अधिकारी लापरवाह हो गए हैं। प्रदेश के हालात आज यह है कि बेड के ऊपर दो-दो लोग लिटा रखे हैं। एनसीआर के हालत यह है कि एक-एक घर में तीन-तीन मौत हो रही है। मैं समझता हूं कि सरकार को बहुत मशक्कत करनी पड़ेगी। मैंने उस नोडल अधिकारी के खिलाफ लेटर दिया है कि या तो इसके खिलाफ कार्रवाई करो, नहीं तो लोगों में इसका बहुत गलत संदेश जाएगा।

प्रशन:- प्रदेश में हो रही कालाबाजारी को कैसे रोके। आप का तजुर्बा क्या कहता है ?
उत्तर:-
यह जो इन्होंने सीआईडी-आईबी लगा रखी है बजाय इसके विधायकों पर ध्यान दें। आप देखिए कि एक सिलेंडर 60 हजार रुपए में मिल रहा है। रेमडेसीविर इंजेक्शन के लिए लोग दर-दर भटक रहे हैं। किसी भी कीमत पर लेने के लिए तैयार है।

प्रशन:- आपका क्षेत्र गुड़गांव आज पूरी तरह से कोरोना की चपेट में है। दिल्ली के 80 फ़ीसदी मरीज वही एडमिट बताए जा रहे हैं ?
उत्तर:-
सरकार पूर्ण रूप से फेल है। प्राइवेट अस्पताल लूट मचा रहे हैं। सरकार ने अब तक बेड की कॉस्ट कितनी होनी चाहिए यह पेपर तक में नहीं दिया है। एक बार पेशेंट प्राइवेट अस्पताल में चला गया तो या तो वह मर कर आएगा या उसकी वित्तीय हालत ऐसी हो जाएगी कि वह कहीं का नहीं रहता। मेरी मुख्यमंत्री से गुजारिश है कि वह इस बात पर संज्ञान लें। इंजेक्शन और अन्य चीजों की मार्केटिंग जो हो रही है उस पर रोक लगाएं।


प्रशन:- सेना आगे आई है। पानीपत-हिसार में 500-500 बेड के अस्पताल बन रहे हैं और अंबाला व चंडी मंदिर चंडीगढ़ में सेना के अस्पतालों में आम मरीजों के लिए अलाउ किया है ? 
उत्तर:-
मैं खुद फौज में रहा हूं और फौज में देश के लिए बड़ा जज्बा है। मैं कहता हूं कि हमारे अफसरों में जज्बा क्यों नहीं है।

प्रशन:- क्या इसे अघोषित हेल्थ एमरजैंसी मान सकते हैं ?
उत्तर:- 
यह एमरजैंसी से भी ज्यादा बढ़कर है। घरों में मातम फैल रहा है। कोई भी ऐसा गांव नहीं है जिसमें 5-7 आदमियों की मौत न हुई हो। बहुत बुरा हाल है।

प्रशन:- आपके विधायक पुत्र चिरंजीव राव दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। क्या यह बात सही है ?
उत्तर:- 
जिले में ही कोई कोरोना से डेथ हो गई थी।वह उनसे मिलने गए थे। वहां वह कोरोना की चपेट में आ गए। इतने बुरे हालातों के बाद हमारे क्षेत्र में बनाए गए एक डेढ़ सौ बेड के अस्थाई अस्पताल में न तो ऑक्सीजन है न ही वेंटिलेटर। मैंने वहां जाकर सीएमओ को लताड़ा। केवल 2 मरीज ही उस में एडमिट है। जिसका फायदा प्राइवेट अस्पताल वाले उठा रहे हैं। लोगों की गाढ़ी कमाई को दोनों हाथों से लूट रहे हैं।

प्रशन:- प्रदेश में कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है। उसकी भूमिका क्या है ?
उत्तर:-
गुरुग्राम व रेवाड़ी में बकायदा हमने एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है। व्हाट्सएप ग्रुप में जो भी कोई व्यक्ति अपनी समस्या बताता है तो तुरंत अधिकारियों से बात करके समस्याओं के निदान की कोशिश हम लोग करते हैं। विधायक चरणजीत भी फील्ड में है। हमारे सभी कार्यकर्ता लोगों की सेवा में जुटे हैं।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Recommended News

static